नई दिल्ली/नोएडा [लोकेश चौहान/मोहम्मद बिलाल/ प्रवीण विक्रम सिंह ]। हाथरस दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के लिए जाने जा रहे राहुल व प्रियंका गांधी को पुलिस ने रोक दिया है। इन्हें हिरासत में लेकर पुलिस ग्रेटर नोएडा के एक गेस्ट हाउस ले गई। फॉर्मूला वन ट्रैक गेस्ट हाउस से राहुल गांधी और प्रियंका को लेकर पुलिस दिल्ली सीमा तक लेकर आयी। सरिता विहार सीमा से वापस ग्रेटर नोएडा पुलिस की गाड़ियां वापस हो गई। इनके साथ कांग्रेस के अन्य नेता भी मौजूद हैं। इससे पहले यमुना एक्सप्रेस-वे पर पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। झड़प के बीच राहुल गांधी गिर पड़े, हालांकि उन्हें कोई चोट नहीं आई है। 

वहीं, राहुल गांधी के गिरने की जानकारी मिलते ही कांग्रेस कार्यकर्ता भड़क गए। कुछ देर तक कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्कामुक्की जारी रही, बाद में पुलिस ने फिर से मोर्चा संभाल लिया। 

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज, पुलिस ने खदेड़ा

यमुना एक्सप्रेस वे से राहुल गांधी व प्रियंका को ले जाने के तुरंत बाद पुलिस ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज कर दिया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने खदेड़ दिया। कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि जिलाध्यक्ष को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया। बताया जा रहा है कि कई कई कार्यकर्ता चोटिल भी हुए हैं। कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी ने आरोप लगाया कि यमुना एक्सप्रेस वे उनकी पिटाई की। 

पुलिस की जीप को घेर लिए कांग्रेस कार्यकर्ता

जब राहुल व प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में लिया तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। जिस जीप में राहुल व प्रियंका को बैठाया गया उसके ऊपर कांग्रेस कार्यकर्ता चढ़ गए। जबकि कई कार्यकर्ता जीप को चोरों ओर से घेर लिया। जीप को रोकने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ता सड़क पर लेट गए। 

राहुल गांधी समेत कांग्रेस नेताओं को हाथरस जाने से रोका

ग्रेटर नोएडा के यमुना एक्सप्रेस वे पर पहुंचे ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर लव कुमार ने कहा किसी भी कीमत पर राहुल गांधी को हाथरस नहीं जाने दिया जाएगा। भारी हंगामे के बीच हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी, दीपेंद्र हुड्डा और प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।  

ये भी पढ़ेंः UP: यमुना एक्सप्रेसवे पर हाई वोल्टेज ड्रामा, धक्का-मुक्की के दौरान गिरे राहुल गांधी; कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

पैदल चले राहुल व प्रियंका गांधी

बृहस्पतिवार दोपहर पीड़ित परिवार से मिलने के लिए हाथरस जाने के दौरान राहुल गांधी व प्रियंका के काफिले को यमुना एक्सप्रेस वे के जीरो प्वाइंट पर पर रोक लिया गया। इसके बाद राहुल और प्रियंका दोनों हाथरस लिए पैदल ही चले। कुछ देर बाद ही यमुना एक्सप्रेसवे पर पुलिस ने फिर से लाठीचार्ज किया। इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं व पुलिस के बीच जमकर हाथापाई हुई। 

यमुना एक्सप्रेस-वे पर गिर पड़े राहुल गांधी

यमुना एक्सप्रेस-वे पर लाठीचार्ज के दौरान पुलिस ने राहुल गांधी से की धक्का-मुक्की की, इसके बाद राहुल गांधी एक्सप्रेस वे पर गिर गए। 

पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस वे पर बनाई मानव श्रृंखला 

 कांग्रेसियों को रोकने के लिए पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस वे पर मानव श्रृंखला बनाई थी, लेकिन राहुल गांधी पुलिस की चेन को तोड़कर एक्सप्रेस वे पर पैदल निकल पड़े और इस बीच प्रियंका गांधी काफी पीछे रह गई । इससे पहले पत्रकारों से बातचीत में प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं पैदल ही जाऊंगी हाथरस। योगी सरकार पर बड़ा हमला करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि विपक्ष का काम सरकार को जगाना है। हाथरस जाने से हमें कोई नहीं रोक सकता और पीड़ित के स्वजन से मिलेंगे।

योगी सरकार पर साधा जमकर निशाना

प्रियंका गांधी ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेनी पड़ेगी। अपराधियों पर सख्त कार्रवाई करनी पड़ेगी। महिला सुरक्षा को लेकर प्रदेश में हालात नहीं बदल रहे हैं। भाजपा सरकार अपने आप को हिंदू धर्म का रक्षक बताती है और एक हिंदू पिता को उसकी बेटी के अंतिम संस्कार से भी रोका गया। 

डीएनडी पर पहुंचा करीब 250 वाहनों का काफिला

इससे पहले बृहस्पतिवार की दोपहर करीब एक बजे कांग्रेस नेताओं का काफिला डीएनडी टोल प्लाजा को पार कर गया। प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू व जतिन प्रसाद के साथ करीब 250 वाहनों का काफिला हाथरस जाने के लिए निकला। पुलिस इस काफिले को डीएनडी से ही वापस कराने की तैयारी में थी, लेकिन कार्यकर्ताओं की संख्या अधिक होने के कारण पुलिस काफिले को वापस नहीं कर पाई, इसके बाद राहुल-प्रियंका का काफिल नोएडा-ग्रेटर नोएडा से होता हुआ हाथरस की ओर बढ़ गया। 

हाथरस दुष्कर्म कांड को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर  सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि यूपी में कानून व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का आरोप है कि पीड़िता का परिवार अंतिम संस्कार तक नहीं कर पाया। ये अमानवीयता का सबसे बड़ा उदाहरण है।

यहां पर बता दगें कि 14 सितंबर को उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 19 साल की एक दलित लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था, वहीं घटना के बाद  पुलिस ने इस मामले में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इस  मामले को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और मायावती ने भी योगी सरकार को निशाने पर लिया है। 

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस