नई दिल्ली/नोएडा [आशीष धामा]। मानसून की दस्तक के साथ ही पिछले एक पखवाड़े से दिल्ली-एनसीआर में झमाझम बारिश का दौर जारी है। इससे जहां भीषण गर्मी और उमस से राहत मिली है तो न्यूनतम और अधिकतम तापमान में भी तेजी से गिरावट आई है। कहा जा रहा है कि सोमवार को अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस तक आ सकता है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, अगले 5-6 दिनों के दौरान बारिश का यह दौर जारी रहेगा। इससे न्यूनतम और अधिक तापमान में गिरावट के साथ गर्मी और उमस से भी राहत मिलेगी।

उधर, वायु प्रदूषण की मार से कराह रहे दिल्ली के साथ नोएडा शहर के पर्यावरण को भी बारिश से सेहत का वरदान मिला है। बादलों की छांव से जहां सूरज की रोशनी लोगों के लिए परेशानी का सबब नहीं बन रही है, वहीं प्रदूषण छंटने से हवा भी खुलकर सांस ले रही है। रुक-रुक कर हो रही बारिश से पेड़-पौधों से धूल की चादर हट गई है तो हरियाली आंखों को सुकून दे रही है। वर्षों बाद एयर क्वालिटी इंडेक्स का ग्राफ 50 से नीचे पहुंचा है, जो पर्यावरण की दृष्टि से सुखद है।

नोएडा व ग्रेटर नोएडा प्रदूषण के लिहाज से बेहद संवेदनशील जिले हैं। अधिकारियों को वायु प्रदूषण नियंत्रित करने के लिए कार्ययोजना बनाकर काम करना पड़ता है, बावजूद जिला कई दिनों तक देश के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में शुमार रहता है, लेकिन इन दिनों शहर ही आबोहवा बदली-बदली सी है। दिनभर रुक-रुक कर हो रही बारिश व तेज हवा से वातावरण में मौजूद धूल के महीन कण जमीन पर आ गए हैं। वायु प्रदूषण कम होने के बाद लोग खुली हवा में सांस ले रहे हैं।

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Uttar Pradesh Pollution Control Board) की वेबसाइट के अनुसार शुक्रवार को शाम छह बजे तक नोएडा सेक्टर-125 का एक्यूआइ 39 दर्ज किया गया। जबकि प्रदूषित तत्व पीएम-2.5 व पीएम-10 का औसतन स्तर 40 माइक्रोग्राम/मीटर क्यूब रहा। ऐसा मौसम में हो रहे बदलाव के कारण हुआ है। मौसम विज्ञानियों के माने तो यदि आने वाले दिनों में भी मौसम का यहीं मिजाज रहा तो वायु प्रदूषण के स्तर में और भी अधिक कमी आएगी।

Edited By: Jp Yadav