नोएडा, जागरण संवाददाता। डीएससी से सेक्टर-71 के लिए जाने वाले मार्ग पर बृहस्पतिवार देर रात कार सवार युवक ने गंभीर रूप से घायल अपने दोस्त को सड़क के किनारे फेंक कर फरार हो गया। नशे की हालत में युवक ने एसयूवी कार को एक पेड़ से टक्कर मार दी थी, जिसमें उसके दोस्त के सिर में गंभीर चोट आई।

शुक्रवार सुबह कोतवाली सेक्टर-49 पुलिस उसे अस्पताल में भर्ती कराया। आरोपित युवक को हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस को अभी स्वजनों से शिकायत नहीं मिली है।

पार्टी कर जा रहे थे घर, पेड़ से टकरा गई थी कार

डीके शर्मा ने बताया कि हरदीप सिंह और मयंक कॉल सेंटर में नौकरी करते हैं। दोनों ही रात में कहीं से पार्टी कर लौट रहे थे। पार्टी में हरदीप ने खूब शराब पी थी। नशे की हालत में वह कार ड्राईव कर रहा था। डीएससी मार्ग पर सेक्टर-49 के पास सड़क के किनारे तेज रफ्तार से कार एक नीम के पेड़ से टकरा गई। कार का बायां हिस्सा बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुआ है। मयंक कार की पिछली सीट पर बाएं तरफ खिड़की से सिर निकाल कर बैठे हुए थे। टक्कर के बाद वह संभल नहीं पाए और उनका सिर पेड़ की चपेट में आ गया। वहीं आरोपित हरदीप पुलिस केस में फंसने की डर से उसे फेंक कर फरार हो गया।

रात दो बजे युवक का शव कार में ले जाने की मिली थी सूचना

कोतवाली प्रभारी धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि रात करीब दो बजे अनजान व्यक्ति ने कॉल कर एक युवक की हत्या करने की जानकारी दी। उसने बताया कि युवक शव एक एक्सयूवी कार में डाल कर कहीं लेकर जा रहा है। पुलिस को उसने एक्सयूवी कार का नंबर भी दिया। इस पर पुलिस की कई टीमें एक्सयूवी कार की तलाश में जुट गईं। रात करीब तीन बजे सेक्टर-74 स्थित सुपरटेक केपटाउन के पास वह एक्सयूवी कार मिल गई। उसमें सवार युवक हरदीप ङ्क्षसह रंधावा से पूछताछ की गई। हरदीप मूलरूप से पीलीभीत के निवासी है और सेक्टर-74 में रहते है। वह नशे की हालत में थे। उन्होनें पुलिस को सिर्फ यह बताया कि कार में उनका दोस्त मयंक था।

सुबह छह बजे मिली युवक को गोली मारने की सूचना 

सुबह करीब छह बजे एक अन्य अनजान व्यक्ति ने पुलिस को जानकारी दी कि बरौला स्थित हनुमान मंदिर के पास एक युवक खून से लथपथ पड़ा है। उसे सिर में गोली मारी गई है। पुलिस फिर भाग कर मौके पर पहुंची और वहां युवक गंभीर हालत में पड़ा मिला। युवक के सिर के बाईं तरफ का हिस्सा बुरी तरह चोटिल मिला और खून बह रहा था। सुबह उसे दिल्ली के ट्रामा सेंटर में रेफर कर दिया गया। उसके पास मिले आइकार्ड से उसकी पहचान मयंक (25) के रूप में हुई। वह परिवार के साथ सुथियाना में रहता है।

 दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस