नोएडा (बृजेश सिंह तालान)। आए दिन जाम और अतिक्रमण की समस्या से जूझ रहे जेवर के लोग प्रशासन से लेकर राजनैतिक नेताओं से कई वर्ष से बाईपास के निर्माण की मांग कर रहे हैं। जेवर कस्बे में बाईपास न होने के कारण होने वाले सड़क हादसों में पिछले दो तीन वर्ष में दर्जनों बच्चे, युवक, महिला और पुरुषों की मौत हो चुकी है।

हर घटना के बाद प्रशासन द्वारा बाईपास के निर्माण का आश्वासन तो मिलता है, पर कुछ दिन बाद अधिकारियों की लापरवाही के चलते लोगों की इस मांग को दरकिनार कर दिया जाता है।

शुक्रवार को जेवर में ट्रक की नीचे कुचले जाने से दो भाइयों की मौत के बाद जेवर के विधायक धीरेंद्र सिंह ने लोगों को जेवर में शीघ्र ही बाईपास के निर्माण शुरू कराने का आश्वासन दिया। इससे लोगों में बाईपास के निर्माण की उम्मीद जगी है।

गौरतलब है कि पिछले कई वर्षों में जेवर-टप्पल रोड पर हुई सड़क दुघटनाओं में मेंहदीपुर गांव निवासी इस्लाम के पुत्र अरमान, जेवर के माडलपुरिया निवासी गिरीश के पुत्र चिराग, जेवर के मौहल्ला दाऊजी वाला निवासी जयभगवान के पुत्र विनीत, टप्पल रोड निवासी कलुआ के पुत्र जीशान की सड़क दुर्घटना में मौत हो चुकी है।

इसके अलावा मंगरौली गांव निवासी नीरज शर्मा के पिता होतीलाल और मां राजकुमारी की जिंदगी भी टप्पल रोड पर सड़क दुर्घटना में जा चुकी है।

कुछ वर्ष तीन महिलाओं की सामूहिक मौत भी टप्पल रोड पर हो चुकी है। इसके अलावा भी दर्जनों अन्य लोग भी जेवर में सड़क हादसों की भेंट चढ़ चुके हैं।

प्रत्येक घटना के बाद लोगों को बाईपास के निर्माण का आश्वासन तो मिलते रहे पर आज तक बाईपास नहीं बन सका। इससे पहले प्रदेश में सपा सरकार के शासनकाल में खुर्जा के विधायक बंशी सिंह पहाड़िया विधानसभा सत्र में जेवर में बाईपास की मांग उठा चुके हैं।

वहीं, जेवर क्षेत्र में सड़कों की चौड़ाई पर्याप्त होने की दुहाई देकर बाईपास के निर्माण के मामले का लटका दिया गया। जेवर की सड़कों पर प्रशासन की लापरवाही के चलते लोगों अतिक्रमण व कब्जा कर लिया है।

वहीं दिल्ली में भारी वाहनों के प्रवेश के बाद जेवर क्षेत्र में वाहनों के भारी दवाब के चलते जेवर क्षेत्र में आए दिन जाम व दुर्घटनाएं हो रही हैं। यदि शीघ्र ही क्षेत्र में बाईपास का निर्माण नहीं हुआ, तो इसी तरह सड़क हादसों में क्षेत्र के लोग अपनी जान गंवाते रहेंगे।

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप