नोएडा, जागरण संवाददाता। ग्रैंड ओमेक्स सोसायटी निवासियों को अतिक्रमण हटाने के लिए नोएडा प्राधिकरण की ओर से दिया गया 48 घंटे का समय सीमा बृहस्पतिवार को समाप्त हो गई। अब शुक्रवार को कार्रवाई शुरू होगी। इसको लेकर प्राधिकरण अधिकारियों ने तैयारी पूरी कर ली है। प्राधिकरण के नियोजन विभाग व सर्किल टीम ने एक दिन पहले ही 132 फ्लैटों का सर्वे कर आवंटियों को बता दिया था कि मानचित्र के विपरीत क्या क्या निर्माण किया गया है, जो प्राधिकरण के हिसाब से अतिक्रमण की श्रेणी में आता है।

अपने स्तर से हटाने की अपील

सर्वे टीम ने यह भी कहा था कि आप अपने स्तर से इसे हटा ले अन्यथा प्राधिकरण का बुलडोजर चला तो क्षति ज्यादा हो सकती है, लेकिन सोसायटी के लोगों ने प्राधिकरण के अल्टीमेटम को नहीं माना। 48 घंटे बीत जाने के बाद भी यहां लोगों ने अवैध निर्माण को नहीं हटाया। प्राधिकरण ने यहां करीब 100 से ज्यादा फ्लैट आवंटियों को नोटिस जारी किया है।

अधिकांश फ्लैट के आगे लोहे और प्लास्टिक के बनाए गए हैं शेड

नियोजन विभाग अधिकारियों ने बताया कि यहां किए सर्वे में अधिकांश फ्लैट आवंटियों ने घर के आगे शेड (लकड़ी, लोहे प्लास्टिक) से बनाए गए है। इसके साथ पेड़ों को लगाकर कामन एरिया को कवर किया गया है। इन शेड और पेड़ों को हटाया जाना था। नोएडा प्राधिकरण मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने बताया कि सोसायटी में जो भी अवैध निर्माण है उसे हटाया जाएगा।

सोसायटी वाले श्रीकांत का मकान बनाने को तैयार

प्रदर्शन के बाद भाकियू नेता मांगे राम त्यागी ने कहा कि सोसायटी में अवैध निर्माण चिह्नित होते ही सोसायटी के कई लोग उनके पास आए बोले चाहे सोने की ईंट लग जाए। हम कल ही मकान बना देंगे। आप यह कह दो प्राधिकरण हमारे फ्लैट और पेड़ न तोड़े।

सात अगस्त को प्राधिकरण ने की थी सोसायटी में कार्रवाई

पांच अगस्त को श्रीकांत त्यागी ने सोसायटी की महिला के साथ अभद्र व्यवहार का वीडियो वायरल हुआ था, जिसको लेकर सोसायटी वासियों ने विरोध प्रदर्शन किया था। सात अगस्त को नोएडा प्राधिकरण की टीम दल बल के साथ ओमेक्स सोसायटी पहुंची। श्रीकांत त्यागी के घर के बाहर बने शेड को ध्वस्त किया था। पाम ट्री को पांच अगस्त को ही सोसायटी वालों ने तोड़ दिया था।

Edited By: Prateek Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट