नोएडा [कुंदन तिवारी]। नोएडा और ग्रेटर नोएडा एक्वा लाइन मेट्रो परियोजना की मंजूरी उत्तर प्रदेश सरकार ने दे दी है। एनएमआरसी की एमडी रितु माहेश्वरी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। दो चरणों में एक्वा लाइन एक्सटेंशन का विस्तार होगा। 

इसके निर्माण में 1,064 करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है। वहीं, दूसरे चरण में सेक्टर दो से नॉलेज पार्क पांच तक मेट्रो का विस्तार होगा। पूरी परियोजना करीब 14.9580 किलोमीटर की है, इस पर कुल नौ स्टेशनों का निर्माण शामिल है। इसके निर्माण पर 2600 करोड़ से अधिक की लागत आने का अनुमान है। पहले चरण में मेट्रो का संचालन शुरू होने से ग्रेटर नोएडा वेस्ट की सोसायटियों में रहने वाले लोगों को इसका फायदा मिलेगा।

इसके साथ ही आस पास के ग्रामीण, गाजियाबाद के सीमावर्ती इलाके क्रासिंग रिपब्लिक आदि के हजारों लोगों को भी मेट्रो की सुविधा मिलेगी। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के विस्तार से नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्वा मेट्रो के लिए यात्रियों का टोटा भी कम होने और कमाई बढ़ने की भी उम्मीद है।

 

अगर परियोजना पर काम सही तरीके से चला तो नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बीच अगले तीन साल में 15 किमी के दायरे में मेट्रो चलती नजर आएगी। दोनों शहरों में मेट्रो का यह तीसरा विस्तार होगा। इससे शहर के लाखों लोगों का सफर आसान करने वाली मेट्रो ट्रेन दिल्ली, गाजियाबाद, फरीदाबाद और गुरुग्राम की दूरी भी घटाएगी।

मेट्रो के तीसरे विस्तार तहत नोएडा और ग्रेटर नोएडा के ज्यादातर इलाके शामिल किए जाएंगे।  इसे मार्च 2022 तक पूरा करने की योजना है। यह मेट्रो परियोजना नोएडा में सेक्टर-71 से ग्रेटर नोएडा के नालेज पार्क -5 तक होगी। इसमें सभी स्टेशन ओवरहेड होंगे। कोई भी स्टेशन भूमिगत नहीं होगा। इनके बीच कुल 15 स्टेशन होंगे।

 

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप