ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता। आखिरकार यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग की शुरुआत हो गई है। एक्सप्रेस-वे का संचालन कर रही कंपनी जेपी इंफ्राटेक के वाहनों पर शुक्रवार को इसका सफल ट्रायल हुआ। शनिवार से यात्रियों के लिए फास्टैग की सुविधा मिलने की संभावना है। फास्टैग शुरू होने से एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को नकद टोल टैक्स भुगतान के झंझट से मुक्ति मिलेगी। टोल बूथ पर लगने वाले जाम की समस्या खत्म होने के साथ ही यात्र समय में भी बचत होगी।

यमुना प्राधिकरण ने 15 जून से यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग सुविधा शुरू होने का दावा किया था, लेकिन एक्सप्रेस-वे के टोल टैक्स डाटा एवं साफ्टवेयर को इंडियन हाइवे मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड (आइएचएमसीएल) के साफ्टवेयर के साथ लिंक करने में अड़चन आने से तय समय पर यात्रियों को फास्टैग सुविधा नहीं मिल सकी। इस खामी को दूर करने के लिए जेपी इंफ्राटेक ने आइएचएमसीएल को जरूरी डाटा उपलब्ध करा दिया है। इससे यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग से मिलने वाली टोल राशि संचालक कंपनी के खाते में पहुंच जाएगी।

एक ही फास्टैग से होगा टोल टैक्स भुगतान

टोल टैक्स भुगतान के लिए यमुना एक्सप्रेस-वे व राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक ही फास्टैग कार्य करेगा। एक्सप्रेस-वे के दोनों रास्तों पर दो-दो लेन पर फास्टैग की सुविधा होगी। अन्य टोल बूथ नकद भुगतान के लिए होंगे। फास्टैग लेन में बिना फास्टैग वाहनों के गुजरने पर भी सामान्य टोल टैक्स लिया जाएगा। वाहन चालक सही लेन में लगे, इसके लिए टोल प्लाजा पर गार्ड तैनात होंगे।

 

दैनिक जागरण के अभियान के बाद हुई थी पहल

यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग सुविधा देने की पहल दैनिक जागरण के अभियान के बाद की गई थी। एक्सप्रेस-वे पर नकद टोल भुगतान से बूथ पर वाहनों की लंबी कतार लगती है। सप्ताहांत व त्योहार के दौरान वाहनों की संख्या बढ़ने से हालात और गंभीर हो जाते हैं। लोगों की समस्या को देखते हुए दैनिक जागरण ने अभियान चलाया था। इसके बाद सीईओ यमुना प्राधिकरण ने जेपी इंफ्राटेक को फास्टैग की सुविधा देने के निर्देश दिए थे।

डॉ.अरुणवीर सिंह (सीईओ, यमुना प्राधिकरण) यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग का ट्रायल शुरू है। कुछ तकनीकी समस्या आ रही थी, जिसका समाधान हो गया है। 

Edited By: Jp Yadav