नोएडा, जेएनएन। गौतमबुद्ध नगर जिले के डीएम सुहास एल वाई ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा में लॉकडाउन के बीच संचालित किए जा रहे कार्यालय परिसर, औद्योगिक इकाइयों और वाणिज्यिक परिसरों के लिए एक गाइडलाइन जारी की है। डीएम के मुताबिक, कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच कई कंपनियों में काम शुरू किया गया है। संभव है कि किसी कंपनी में कोरोना संक्रमण का मामला सामने आए। ऐसे में कंपनी प्रधंबन को मामले की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देनी होगी।

डीएम के मुताबिक, अगर किसी कंपनी का कोई कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है तो कंपनी प्रबंधन को तत्काल इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को देनी होगी। संक्रमण संभावित कर्मचारियों को क्वारंटाइन कियाएगा। संभावित लोगों की स्क्रीनिंग या कोरोना की जांच कराए जाएगी। जिस कंपनी में कोरोना संक्रमित कर्मचारी पाए जाएंगे उसे सील कर दिया जाएगा। कंपनी तभी खोली जाएगी जब जिला प्रशासन प्रेमिसेस फिटनेस सर्टिफिकेट जारी करेगी। कंपनी को एक हलफनामा देकर यह बताना होगा कि कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए जरुरी कदम उठाए गए हैं।

दरअसल, अभी हाल में ही ग्रेटर नोएडा में दो निजी कंपनियों में कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इसके अलावा एक टीवी न्यूज चैनल के भी कुछ कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए थे। इन सभी को देखते हुए डीएम ने यह गाइडलाइन जारी की है। 

बता दें कि गौतमबुद्ध नगर जिले में संक्रमितों की संख्या 324 हो गई है। 221 मरीज ठीक हो चुके व पांच की मौत हुई है। जिले में शनिवार को विभिन्न जांच केंद्रों से कोरोना के 246 रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 229 नेगेटिव व 17 की पॉजिटिव मिली। सरफाबाद व नंगला चरणदास समेत विभिन्न इलाकों में कोरोना संक्रमित मरीज मिले। इनमें ओप्पो कंपनी के कर्मचारी का परिवार भी शामिल है। अब जिले में संक्रमितों की संख्या 324 हो गई है। 221 मरीज ठीक हो चुके व पांच की मौत हुई है।

नंगला चरणदास में लगा हेल्थ कैंप

नगला चरणदास के गांव में अज्ञात कारण से तीन नए मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने प्रोटोकॉल के तहत 500 मीटर क्षेत्र को सील कर वहां रहने वाले करीब 140 लोगों की स्क्रीनिंग की। स्क्रीनिंग के दौरान दो मरीज संदिग्ध मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग ने दोनों के सैंपल ले लेकर उन्हें क्वारंटाइन कर दिया है।

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस