जागरण संवाददाता, नोएडा :

नोएडा में देश का पहला न्यू बॉर्न एंड चाइल्ड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन एंड ब्लड बैंक स्थापित किया गया है। इसकी स्थापना सेक्टर-30 के चाइल्ड पीजीआइ में की गई है। इसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया, डीजीएचएस, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस साल जनवरी में लाइसेंस दिया था। इस ब्लड बैंक की क्षमता 1400 यूनिट(आरबीसी), एक हजार यूनिट (एफएफपी) और 500 यूनिट (प्लेटलेट्स) की होगी। यह ब्लड कैंसर, थैलेसीमिया, डेंगू, चिकुनगुनिया जैसी बीमारियों व हार्ट, ब्रेन सहित अन्य बड़ी सर्जरी में रक्त की जरूरतों को पूरा करने में देशभर के शिशु मरीजों के लिए वरदान साबित होगा।

इसे नवीनतम उपकरणों से लैस किया गया है। यहां रोगियों के लिए दान किए गए रक्त को सुरक्षित रूप से एकत्रित करने, संसाधित करने और परीक्षण करने के लिए उपकरण लगाए गए हैं। हालांकि, यह ब्लड बैंक पहले से ही थैलेसेमिया से पीड़ित लगभग 20 बच्चों को हर 20-25 दिनों में रक्त प्रदान कर रहा है। यह पहले रक्त बैंकों में से एक है, जो सभी बाल रोगियों को ल्यूकोर्डर्ड (1 लॉग) रक्त प्रदान करता है। इसके अलावा यहां दान किये गए ब्लड में एचआइवी, हेपेटाइटिस बी और सी, मलेरिया और सिफिलिस की जांच की जाती है, साथ ही एचआइवी, हेपेटाइटिस बी एंड सी जैसी वायरल संक्रमण बीमारियों का परीक्षण केमिलीमाइन्सेंस नामक सबसे उन्नत तकनीक से एक से किया जाता है। यहां का प्रबंधन दो डॉक्टरों डॉ सीमा दुआ और डॉ सत्यम अरोड़ा के हाथों में है।

विश्व रक्तदाता दिवस पर किया गया शिविर का आयोजन : चाइल्ड पीजीआइ में विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान अस्पताल की तरफ से लोगों को जागरूक किया गया। शिविर में 100 से अधिक लोगों ने रक्तदान किया। चाइल्ड पीजीआइ की मीडिया प्रभारी नेहर्षी ने बताया कि शिविर में लोगों को जागरूक करते हुए बताया कि रक्तदान से बड़ा दूसरा कोई दान नहीं होता है। इससे दूसरों के जीवन बचाया जा सकता है। रक्तदान के अभाव में हर साल बड़ी संख्या में लोग दम तोड़ देते हैं। रक्तदान करके ऐसे लोगों की जान बचाई जा सकती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस