रवि प्रकाश सिंह रैकवार,नोएडा : यूपी एसटीएफ और सेक्टर-20 कोतवाली पुलिस ने संयुक्त अभियान चलाकर बीते बुधवार को अबू सलेम और जफर सुपारी के करीबी हारिश खान को नोएडा से दबोच लिया। एसटीएफ के अधिकारियों के मुताबिक हारिश ने गजेंद्र सिंह के साथ मिलकर पांच फीसद प्लाट पर कब्जा करने का माड्यूल तैयार किया। 2014 से 2017 तक फर्जी प्लाट को आधार बनाकर करोड़ों रुपये जुटा लिए। डी कंपनी ने अंडरव‌र्ल्ड का कुनबा दिल्ली-एनसीआर में बढ़ाने के लिए हारिश को मुंबई से नोएडा भेजा था। 2004 में हारिश परिवार संग मुंबई गया और दादा के कपड़े की दुकान पर कुछ दिन काम भी किया। काला घोड़ा शूटआउट हारिश के लिए अंडरव‌र्ल्ड तक पहुंचने का अवसर बना। इसके बाद गजेंद्र सिंह और हारिश को एनसीआर में लोगों को अंडरव‌र्ल्ड से जोड़ने के लिए भेजा गया। गजेंद्र पहले से ही सक्रिय था, ऐसे में हारिश का साथ मिलने से गजेंद्र और ताकतवर होता चला गया। एनसीआर में फर्जी प्लाट दिखाकर दोनों ने खूब पैसा कमाया। जब कोई पैसा वापस मांगता तो दोनों अंडरव‌र्ल्ड का भय दिखाकर चुप करा देते थे।

..........................

एनसीआर की चमक ने खींचा ध्यान

मुंबई में अपनी जड़े जमाकर बैठे डी कंपनी के गुर्गों को हारिश और गजेंद्र ने ही बताया कि दिल्ली-एनसीआर में अपार पैसा है और यहां अंडरव‌र्ल्ड का नेटवर्क स्थापित कर अरबों की उगाही की जा सकती है। हारिश और गजेंद्र की सलाह डी कंपनी के गुर्गों को अच्छी लगी और अबू सलेम और जफर सुपारी ने हारिश को दिल्ली-एनसीआर में अंडरव‌र्ल्ड का नेटवर्क बढ़ाने की जिम्मेदारी सौंप दी।

.... ओसामा ने कराई थी अबू सलेम से मुलाकात

आरोपित ने पूछताछ में बताया कि आर्थर रोड मुबंई जेल में वह ओसामा से मिलने जाता था। इसी क्रम में ओसामा ने उसकी मुलाकात वहां अबू सलेम और जफर सुपारी से करा दी। ओसामा इलाहाबाद में जफर सुपारी के साथ पढ़ाई कर चुका था और उसका करीबी था। ओसामा का ननिहाल जौनपुर में था और हारिश का घर यहीं था। यही कारण था कि दोनों में नजदीकी बढ़ गई।

Edited By: Jagran