जागरण संवाददाता, नोएडा :

जिले में 24 घंटे में रिकार्ड आठ संक्रमितों की मौत का मामला सामने आया है। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि सभी मौत ग्रेटर नोएडा स्थित शारदा अस्पताल में हुई है। सभी को गंभीर बीमारी थी। वहीं, अप्रैल के 20 दिनों में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 23 हो गई है, जबकि 5,497 नए संक्रमित मिल चुके हैं। मौत के बढ़ते मामलों के बीच सेक्टर-94 स्थित अंतिम निवास स्थान से लेकर कोविड अस्पतालों तक चीखें गूंज रही हैं।

मंगलवार को जहां 640 नए कोरोना संक्रमित मिले, वहीं संक्रमण आठ लोगों की जिदगियां लील गया। हालांकि 255 लोग स्वस्थ होने के बाद घर भी लौटे हैं। अब जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 31,597 हो गई है। इनमें 27,718 लोग स्वस्थ हो गए और 3,765 उपचाराधीन हैं। इनमें 1,012 संक्रमितों का होम आइसोलेशन व शेष 2,753 का विभिन्न कोविड अस्पताल में उपचार चल रहा है। मृतकों का आंकड़ा 114 पहुंच गया है। मार्च के मुकाबले में अप्रैल के बीस दिनों में संक्रमण 10 गुना बढ़ गया है, जबकि मात्र 2,040 संक्रमित ही स्वस्थ होकर घर लौट सके हैं। वहीं, जांच किट के अभाव में जिले में सिर्फ 2,963 जांच ही हो सकी। संक्रमित, मौत व स्वस्थ होने के मामले में जिले ने गाजियाबाद को भी पछाड़ दिया है।

---

कहीं आक्सीजन के अभाव में तो नहीं तोड़ा संक्रमितों ने दम

कोविड आस्पतालों में आक्सीजन की कमी ने एक साथ इतनी मौत होने के पीछे कई सवाल खड़े कर दिए हैं। मंगलवार को जिम्स और शारदा के अलावा सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल में दो बार पंद्रह-पंद्रह मिनट के लिए आक्सीजन की आपूर्ति बाधित हुई थी।

वहीं, अंतिम निवास स्थान पर रोज हो रहे दाह संस्कार और स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े मेल नहीं खा रहे हैं। मंगलवार को अंतिम निवास स्थान पर 30 से अधिक शवों का दाह संस्कार किया गया, जबकि स्वास्थ्य विभाग मौत का आंकड़ा आठ बता रहा है। सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल में भी एक संक्रमित की मौत हुई है, जोकि विभाग ने आंकड़े में शामिल नहीं की। मौत की पुष्टि चिकित्सा अधीक्षक डॉ. रेनू अग्रवाल ने भी कर दी है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021