मुजफ्फरनगर : फलाह-ए-इंसानियत सोसायटी के तत्वावधान में शुक्रवार को मुस्लिम समाज के लोगों ने सीरिया में बेगुनाहों पर किए जा रहे जुल्म के विरोध में शांति मार्च निकाला।

मस्जिद कुम्हारान में जुमा की नमाज से पहले मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मुफ्ती जुल्फिकार ने कहा कि सीरियाई सरकार अपने ही नागरिकों के खिलाफ खतरनाक हथियारों का इस्तेमाल कर रही है। 'शाम का शहर' गौता में बच्चों का भी बेदर्दी से कत्ल किया जा रहा है और संयुक्तराष्ट्र संघ की जंगबंदी का भी कोई असर नहीं दिख रहा है। फक्करशाह चौक पर सोसायटी के सदर कारी मो. खालिद ने कहा कि सीरिया इन दिनों अमानवीयता की हद पार कर रहा है। अभी तक 600 से अधिक मुसलमान मारे जा चुके हैं, हजारों जख्मी हैं। हम सभी सीरिया सरकार की ¨नदा करते हैं। सैंकड़ों मुसलमानों ने फक्करशाह चौक होते हुए मीनाक्षी चौक तक पैदल मार्च किया। संयुक्तराष्ट्र के महासचिव के नाम संबोधित ज्ञापन एसडीएम सदर को दिया गया, जिसमें सीरिया सरकार की ¨नदा करते हुए उससे जुल्म न करने की मांग की गई। नूर इलाही, हकीम रब्बानी, डॉ. शमीमुल हसन, मौ. जमशेद, मौ. मसीउल्ला, मौ. हुजैफा, मौ. जैनुद्दीन व मौ. एनुद्दीन शामिल रहे।

Posted By: Jagran