मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। इवान हास्पिटल में भर्ती 63 स्टील की चम्मच निगलने वाले युवक की हालत आपरेशन के बाद नाजुक बनी हुई है। मरीज का पेट फूलने की समस्या सामने आने पर डाक्टरों के हाथ-पांव फूल गए। हालांकि उन्‍होंने दवा देकर समस्या पर काबू पाने का प्रयास किया। मरीज की डाक्‍टर हर समय निगरानी रख रहे हैं। उसे तरल पदार्थ दिया जा रहा है। 

एक्स-रे और सीटी स्कैन रिपोर्ट में मिली थी जानकारी 

मंसूरपुर के गांव बोपाड़ा निवासी विजय चौहान के पेट से दो दिन पहले 63 स्टील की चम्मच आपरेशन से बाहर निकाली गई थी। इसके बाद भोपा रोड स्थित इवान हास्पिटल के चिकित्सकों ने पत्रकारों से वार्ता की थी। सर्जन राकेश खुराना ने बताया था कि पेट में चम्‍मच होने और दर्द की शिकायत की जानकारी पर उन्होंने मरीज की पुरानी एक्स-रे रिपोर्ट देखी। मरीज ने डाक्‍टर को बताया कि वह नशा मुक्ति केंद्र में था, जहां उसे जबरन चम्मच खिलाए गए थे। एक्स-रे और सीटी स्कैन रिपोर्ट में पेट में मेटल का पता चलने पर आपरेशन किया गया। इस दौरान मरीज के पेट से 63 चम्मच निकाले गए। 

जबरन चम्मच खिलाने का लगाया आरोप

मरीज विजय चौहान के रिश्तेदार अमित चौधरी और अखिल चौधरी ने पत्रकारों को बताया था कि उनका मरीज करीब सात महीने से शामली और पानीपत स्थित नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती था। एक ही व्यक्ति के दोनों नशा मुक्ति केंद्र है। वहां विजय चौहान को जबरन चम्मच खिलाए जा रहे थे, जिस कारण उसके पेट से 63 चम्मच निकले। उसके पेट में दर्द रहता था। 

अभी पूर्ण रूप से नहीं है स्वस्थ 

आपरेशन के दो दिन बाद विजय की हालत पूर्ण रूप से स्वस्थ नहीं है। डा. राकेश खुराना ने बताया कि बुधवार की रात मरीज का पेट फूल गया था। इस परेशानी को देखते हुए उसे दवाइयां दी गई थीं, जिसके बाद उसकी तबीयत में आराम आया। मरीज को तरल पदार्थ देकर हर समय निगरानी में रखा जा रही है। 

यह भी पढ़ें: 63 चम्मच निगल चुका था युवक, आपरेशन कर निकाले बाहर, नशा मुक्ति केंद्र की भूमिका पर सवालिया निशान

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट