मुजफ्फरनगर, जेएनएन। रोडवेज डिपो में बसें तैयार हैं। तिथि मिलते ही संचालन शुरू होगा। सभी बसों को धुलवाने के साथ सैनिटाइज किया गया है। लगातार प्रशासन भी कामगारों के लिए बसों को इस्तेमाल कर रहा है। आम यात्रियों के बस में सफर करने के लिए कायदे-कानून बदले गए हैं। बदले कानूनों के तहत रोडवेज में सफर किया जा सकेगा।

मास्‍क लगाना होगा अनिवार्य 

चालक, परिचालक के अलावा यात्रियों को मॉस्क लगाना अनिवार्य होगा। देशभर में चौथा लॉकडाउन 31 मई तक रखा गया है। जिस कारण बसों का भी पहिया जाम है। परिवहन को भी बसों का संचालन नहीं होने से करोड़ों रुपये का फटका झेलना पड़ा है। फिलहाल बसों को प्रवासी कामगारों को छोड़ने के लिए लगाया गया है। इसके लिए चालक-परिचालकों की ड्यूटी लगी है। लॉकडाउन समाप्त होने के बाद बसों के संचालन की सुगबुगाहट हो रही है। सूत्रों का दावा है कि एक जून से बसों को पटरी पर लाने की कवायद की जा रही है। 200 बसें तैयार, संचालन की बनेगी रणनीति डिपो में निगम और अनुबंधित 200 से ज्यादा बसें है।

जिले से बाहर चलने के लिए होंगी ये शर्तें 

सहारनपुर और मेरठ दोनों ही रेड जोन में है, जबकि इन दोनों बड़े जनपदों के बीच मुजफ्फरनगर पड़ता है। यदि बसों का संचालन होता है तो यह जिलें बाहर नहीं जा सकेंगी। इसके लिए परिवहन मुख्यालय ने डिपो अधिकारियों से रणनीति बनाने के निर्देश दिए हैं। बसों का संचालन इस तरह रखा जाएगा कि आय भी हो और यात्री भी सुरक्षित रहें। सैनिटाइज, मॉस्क का होगा इस्तेमाल बस में यात्रा करने के लिए नए नियमों को अपनाया जाएगा। जिसमें चालक-परिचालक मॉस्क, सैनिटाइजर पहनकर चलेंगे, जबकि यात्रियों को भी मॉस्क पहनकर चलना अनिवार्य होगा। एक बस में अधिकतम 30 यात्रियों को सवार होने दिया जाएगा।

इसको लेकर भी अधिकारी मंथन करने में जुटे हैं। बसों में लॉकडाउन खुलते ही भीड़ उमड़ेगी। इनका कहना है बसों को तैयार रखने के निर्देश मिले हैं। जिसके चलते प्रत्येक बस की मरम्मत कराने और सैनिटाइज कर खड़ी कराई गई है। जैसे ही संचालन के लिए तिथि मिलेगी, तत्काल बसों का चलाया जाएगा। यात्रा के लिए कई नियम बदले गए हैं। -संदीप अग्रवाल, एआरएम, रोडवेज डिपो।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस