मुजफ्फरनगर, जेएनएन। रालोद कार्यकर्ताओं ने डीजल-पेट्रोल व रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में सोमवार को जमकर प्रदर्शन किया। प्रकाश चौक पर केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पुलिस-प्रशासन ने बेरीकेडिग लगाकर उन्हें कलक्ट्रेट जाने से रोक दिया। बाद में राष्ट्रपति के नाम सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन दिया।

रालोद कार्यकर्ता सोमवार को सरकुलर रोड स्थित पार्टी कार्यालय पर एकत्र हुए। वहां से युवा मोर्चे के नेतृत्व में जुलूस के रूप में कचहरी की ओर रवाना हुए। प्रकाश चौक पर पुलिस ने उन्हें कचहरी जाने से रोक दिया। इस पर कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की। युवा मोर्चे के जिलाध्यक्ष विदित मलिक ने कहा कि भाजपा राज में महंगाई ने सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं। जनता हलकान है। पेट्रोल के दाम 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गए हैं। रसोई गैस, खाद्य पदार्थ समेत कृषि यंत्र व खाद-बीज महंगे हो गए हैं। बिजली की दरों में लगातार वृद्धि की जा रही है। कोरोना संक्रमण के चलते विद्यालय बंद हैं, लेकिन अभिभावकों से फीस वसूली जा रही है। भ्रष्टाचार चरम पर है।

प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं ने केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, जिस पर पुलिस से बहस हुई। सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने मौके पर पहुंचकर ज्ञापन लिया और वापस लौटने की अपील की। कार्यकर्ताओं ने कहा कि रालोद को हर बार कचहरी में जाने से क्यों रोका जाता है। इस दौरान रालोद जिलाध्यक्ष प्रभात तोमर, पूर्व जिलाध्यक्ष अजीत राठी, शहर अध्यक्ष शहीर आलम, सुधीर भारतीय, संजय राठी, कंवपाल फौजी, सूरज बालियान, उदयवीर सिंह, अंकित सहरावत, सार्थक लाटियान, विकास कादियान, आदेश तोमर, नसीम राणा आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran