जेएनएन, मुजफ्फरनगर। आंधी के साथ झमाझम हुई प्री मानसून बारिश ने नगर पालिका के कार्यों की पोल खोल दी। थोड़ी देर की बारिश में शहर के कई मोहल्लों की गलियां पानी से लबालब हो गईं। आंधी से कई स्थानों पर विद्युत तार व पोल टूट गए जिससे रातभर बिजली गुल रही। पेड़ों से फल टूटकर नीचे गिरने पर आम व लीची के बागवान को भारी नुकसान पहुंचा। 33 मिमी बारिश रिकार्ड की गई।

गुरुवार को दिन में पुरवाई हवा चलने से पूरे दिन उमस भरी गर्मी से लोग हलकान रहे। देर रात आसमान में घटा छा गई। आकाशीय बिजली चमकने लगी। बादल गरजने लगे। कुछ ही देर में आंधी के साथ झमाझम बारिश हुई। आंधी में होर्डिंग्स, बैनर, फ्लेक्स फट गए और दूर जाकर गिरे। कई स्थानों पर विद्युत तार, पोल, पेड़ टूट गए। आंधी आते ही बिजली आपूर्ति बंद कर दी गई थी, पूरी रात विद्युत आपूर्ति सुचारू नहीं हो सकी। देहात में कुछ स्थानों पर तो शुक्रवार की दोपहर बाद बिजली आपूर्ति सुचारू हो सकी। आंधी के आने से आम, लीची, आडू, फुलम आदि के बाग मालिकों व ठेकेदारों के चेहरों पर चिता की लकीरें साफ दिखाई दे रही थी। आंधी में पेड़ों से फल टूटकर गिर गए जिससे बागवान को भारी नुकसान पहुंचा। आंधी 70 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से चल रही थी। बारिश ने खोली नगर पालिका की पोल

आधा घंटा की बारिश ने नगर पालिका के विकास कार्यों की पोल खोलकर रख दी। शहर के शिवचौक, गांधी कालोनी, नई मंडी, द्वारिकापुरी, किदवई नगर, जनकपुरी आदि मोहल्लों की गलियां व सड़कें पानी से लबालब हो गईं। बारिश बंद होने के घंटों बाद सड़कों से पानी उतर सका। ---- पारे में आई गिरावट

आंधी-बारिश के बाद तापमान में गिरावट आ गई। दो दिन पहले जो अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच गया था, शुक्रवार को वह गिरकर 33.3 डिग्री सेल्सियस रह गया। न्यूनतम तापमान भी लुढ़ककर 19.4 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। पारा गिरने से लोगों को गर्मी से राहत मिल सकी। बारिश 30 मिमी रिकार्ड की गई।

इन्होंने कहा- बारिश से फसलों को कोई नुकसान नहीं है। अगले तीन-चार दिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अधिकांश भागों में मध्यम से तेज बारिश होने का अनुमान है। 13 जून को पूरे दिन बारिश हो सकती है।

-डा. पीके सिंह, अध्यक्ष कृषि विज्ञान केंद्र बघरा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप