मुजफ्फरनगर, जेएनएन। पर्यूषण पर्व के छठे दिन जैन मंदिरों में उत्तम संयम धर्म की पूजा अर्चना की गई। श्रद्धालुओं ने पीत और केसरिया शुद्ध वस्त्र धारण करके वीतरागी प्रभु का अभिषेक व भक्ति की। श्रद्धालुओं ने धर्म का जयकारा लगाया।

कस्बे के नौ जैन मंदिरों को सजाया गया। सभी मंदिरों में धर्म स्वाध्याय किया गया। प्रवक्ता रजनी जैन ने धर्मसभा में बताया कि दशलक्षण पर्व में उत्तम सयंम धर्म के पालन का संकल्प लेना चाहिए। शांति के लिए प्रतिज्ञा लेना संयम कहलाता है। पर्यूषण पर्व मनुष्य को त्याग का संदेश देता है। संयमित व्यक्ति समाज में अनुशासित जीवन व्यतीत करता है। इसी के साथ मंदिरों में धर्म चालीसा पाठ, धार्मिक प्रश्न मंच, विभिन्न प्रतियोगिता आयोजित की गई। इस दौरान जैन मिलन अरिहंत व दिगंबर जैन महासमिति ने कार्यक्रम किए। इस अवसर पर अशोक शात्री, सुशील, प्रदीप, संजय, धनेंद्र, अनिल, किशोर, रामकुमार, अरुण, जय भगवान, सुशील, संदीप, अतुल आदि मौजूद रहे।

प्रधानों को क्षमतावर्धन के लिए किया प्रशिक्षित

मुजफ्फरनगर, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के चलते ग्राम पंचायतों में प्रधानों की शपथ आनलाइन हुई थी। अभी तक अधिकतर कार्यक्रम आनलाइन किए जा रहे थे। बुधवार को जिला पंचायत राज विभाग की ओर से बघरा ब्लाक में क्षमतावर्धन प्रशिक्षण सत्र का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम में जिला पंचायत राज अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने प्रधानों से परिचय लिया। इसके बाद पंचायती राज व्यवस्था, समितियों के कार्य, ग्राम पंचायत विकास योजना, योजना निर्माण के चरण, माडल पंचायत, ग्रामीणों के विकास में ग्राम पंचायत की भूमिका समेत केंद्रीय एवं वित्त आयोग के बारे में जानकारी दी गई। डीपीआरओ ने पंचायत पुरुस्कार, स्वच्छ भारत मिशन, उत्कृष्टता प्रमाण पत्र के बारे में भी बताया। कार्यक्रम के समापन पर प्रधानों को प्रमाण-पत्र वितरित किए गए। इस दौरान बीडीओ सतीश कुमार ने भी विचार रखे।

Edited By: Jagran