मुजफ्फरनगर, जेएनएन। कोरोना काल में यूरिया की बंदरबांट करने के आरोप में एक और सहकारी समिति के कर्मचारी पर निलंबन का चाबुक चला है। अभी तक चार कर्मचारी निलंबित हो चुके हैं, जबकि संबंधित विभागों के अधिकारी कटघरे में हैं। इसके चलते यूरिया वितरण के नियमों में आमूल-चूल परिवर्तन किए जा रहे हैं। शासन के निर्देश पर अधिकारी प्रतिदिन वितरण की मॉनिटरिग करेंगे। एक बार में किसान को पांच बोरे से अधिक यूरिया नहीं दिया जाएगा, जबकि एक फसल सीजन के लिए किसी भी किसान को 50 बोरों से अधिक नहीं मिलेंगे।

पहली अप्रैल से 31 जुलाई तक हजारों मीट्रिक टन यूरिया की बंदरबांट करने के आरोप में जनपद की सहकारी समिति फंसी हुई हैं। इस मामले में सहकारी समितियों के तीन कर्मचारी पूर्व में निलंबित किए गए। कुतुबपुर साधन सहकारी समिति के कर्मचारी चमन सिंह ने कोरोना संक्रमण काल में स्वयं ई-पोश मशीन में अपना अंगूठा लगाकर यूरिया के 595 बोरे खरीद कर लिए, जिसके चलते उसे भी निलंबित किया गया है।

अधिकारी रखेंगे वितरण का हिसाब

यूरिया की कालाबाजारी से पर्दा उठाने के बाद अधिकारियों की कार्यशैली बदल गई है। अधिकारी मौके पर जाकर खाद वितरण का ब्योरा जुटा रहे हैं। हर रोज के वितरण की उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट दी जा रही है। पांच दिन पूर्व सीडीओ आलोक यादव ने खाद वितरण को लेकर 22 बिदुओं पर नियम तय किए थे। इसके आधार पर यूरिया वितरण करने की हिदायत दी गई है।

अभी तक कर्मचारियों व दुकानदारों पर चला चाबुक

चार माह में 44 हजार मीट्रिक टन यूरिया की बंदरबांट मामले में सीकरी सहकारी समिति के कर्मचारी महिपाल, ककरौली किसान सेवा सहकारी समिति के कर्मचारी अनिल कुमार और मोरना किसान सेवा सहकारी समिति के कर्मी तेजपाल को पूर्व में निलंबित किया गया था। इसके साथ ही एग्री जंक्शन चरथावल, चौ. एग्रो एजेंसी चरथावल, किसान खाद स्टोर खतौली, पंवार खाद भंडार तितावी और गोयल खाद भंडार शाहपुर के लाइसेंस निलंबित हुए हैं। वहीं कृषि सेवा केंद्र बसी रोड शाहपुर, कृषि प्रगति केंद्र लालूखेड़ी, कृषि प्रगति केंद्र जट मुझेड़ा, कृषि प्रगति सेवा केंद्र गंगधाड़ी के लाइसेंस निरस्त हुए हैं। इन्होंने कहा

यूरिया वितरण में अनियमितता बरतने पर सहकारी समिति कुतुबपुर के कर्मचारी को निलंबित किया गया है। खाद वितरण के लिए नकदीरहित प्रणाली भी शुरू की गई है। पेटीएम, फोन-पे, अमेजन-पे, गूगल-पे के माध्यम से किसान खाद खरीद सकते हैं।

-जसवीर सिंह तेवतिया, जिला कृषि अधिकारी

Edited By: Jagran