मुजफ्फरनगर, जेएनएन। जानसठ क्षेत्र में पुलिस ने तमंचा सप्लायर गिरोह के एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से दो तमंचे बरामद किए गए। वहीं, क्षेत्र में चर्चा है कि पुलिस ने तीन युवकों का पकड़ा था, लेकिन कार्रवाई एक ही आरोपित के खिलाफ ही की गई।

इंस्पेक्टर डीके त्यागी ने बताया कि कस्बा चौकी इंचार्ज गजेंद्र सिंह पानीपत खटीमा मार्ग पर चैकिग कर रही थे। तभी एक युवक बाइक पर आता दिखाई दिया। पुलिस ने उसे रोककर उसकी तलाशी ली तो उसके पास से दो 315 बोर के तमंचे व दो जिदा कारतूस बरामद कर लिए। पुलिस ने उसकी पहचान अंशुल पुत्र शिवकुमार निवासी ग्राम महलका थाना फलावदा जनपद मेरठ के रूप में की। उन्होंने बताया कि आरोपित तमंचा सप्लायर गिरोह का सदस्य है। क्षेत्र में चर्चा है कि पुलिस ने तीन युवाओं को बाइक से दबोचा था। लेकिन एक युवक को ही जेल भेजा गया। बाकी दो को फलावदा गांव के एक पूर्व प्रधान छुटाकर ले गए। इसके बदले काफी पैसों का खेल किया गया है। सवाल यह भी है कि यदि पकड़ा गया आरोपित तमंचा सप्लायर गिरोह का सदस्य है तो पुलिस ने पूरा गिरोह दबोचने की कोशिश क्यों नहीं की? इंस्पेक्टर डीके त्यागी ने बताया कि उन्हें एक युवक के ही गिरफ्तारी की सूचना उन्हें मिली थी। हालांकि मामले की जांच की जाएगी।

- - -

व्यापारी से मारपीट कर 49700 रुपये छीने

चरथावल: गेहूं खरीदने गये एक व्यापारी ने चार लोगों पर गाली-गलौच, मारपीट कर करीब पचास हजार रुपये जबरदस्ती छीनने का आरोप लगाते हुए उनके विरुद्ध तहरीर देकर कार्रवाई की गुहार लगायी है। ग्राम कान्हाहेड़ी निवासी नेमपाल ने दी तहरीर में आरोप लगाया कि गांव गुनियाजुड्डी निवासी मोनू को करीब तीन वर्ष पूर्व भट्टे पर मजदूरी कराने की एवज में तीस हजार रूपये की पेशगी दी गयी थी। लेकिन वह पेशगी लेने के बाद भी भट्टे पर मजदूरी करने नही गया था और न हीं उसने पेशगी के रूपये वापिस किये थे। बुधवार को पीडित गेहूं खरीदने के लिए गांव गुनियाजुड्डी में गया। आरोप है आरोपित ने अपने तीन अन्य साथियों के साथ उसके साथ गाली-गलौज करते हुए मारपीट की और उसकी जेब से 49700 रुपये जबरदस्ती छीनकर फरार हो गये। पीड़ित ने पुलिस को तहरीर देकर आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई की गुहार लगायी है। थाना प्रभारी एमपी सिंह ने मामले की जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

Edited By: Jagran