मुजफ्फरनगर/ मेरठ, जेएनएन। Fake Agniveer Recruitment अग्निवीर योजना के तहत सेना में फर्जी कागजात तैयार करा कर युवकों को भर्ती कराने वाले गिरोह के चार सदस्यों को पुलिस और आर्मी इंटेलीजेंस ने दबोच लिया। दबोचे गए लोगों से भारी मात्रा में कैश, फर्जी मार्कशीट, आधार कार्ड और मोबाइल समेत अन्य सामान बरामद किया है।

नलकूप से पकड़े चारों आरोपित

सिविल लाइन थाने में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय ने बताया कि आर्मी इंटेलीजेंस को सूचना मिली थी कि शहर में चल रही सेना भर्ती में युवकों को फर्जी कागजात बनाकर भर्ती कराने के लिए एक गिरोह सक्रिय है। सूचना पाकर सिविल लाइन पुलिस और आर्मी इंटेलीजेंस ने मामले की छानबीन कर नुमाईश मैदान के पीछे बने नलकूप से चार लोगों को दबोच लिया।

ये हैं आरोपित

पूछताछ में उन्होंने अपने नाम सिकंदर सिंह पुत्र वीर सिंह निवासी मोहल्ला पट्टी कालू ढिकौली थाना चांदीनगर जनपद बागपत, अनुज चौधरी पुत्र केन्द्र सिंह निवासी ग्राम उदयपुर थाना सोनकपुर जनपद मुरादाबाद, प्रशांत चौधरी पुत्र मनवीर सिंह और हिमांशू चौधरी निवासीगण ग्राम मिठौली थाना हजरत गढ़ी जनपद संभल बताए।

यह सब मिला पास से

पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से 2.35 लाख रुपये, दो फर्जी मार्कशीट और दो आधार कार्ड, एक सेना भर्ती का फार्म, 100 मार्कशीट प्रिंट करने वाले पेपर और एक मोबाइल बरामद हुआ। एसपी सिटी ने बताया कि दबोचे गए आरोपित अग्निवीर सेना भर्ती में अभ्यर्थियों के फर्जी कागजात बनाकर उन्हें भर्ती कराते थे।

दो लाख रुपये तक वसूलते थे

पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह ऐसे युवकों को अपने जाल में फंसाते हैं जिनकी भर्ती की आयु सीमा निकल गई हो गया उनके कागजात पूरे नहीं है। बताया कि एक युवक से डेढ़ से दो लाख रुपये तक वसूलते हैं। एसपी सिटी ने बताया कि आरोपितों की पूरी कुंडली खंगाली जा रही है। आरोपित कई युवकों को निशाना बना चुके हैं।

Edited By: PREM DUTT BHATT

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट