मुजफ्फरनगर: मुकद्दस रमजान के पहले जुमे में अधिकांश मुस्लिमों ने रोजा रखकर अल्लाह की इबादत की। जुमे की नमाज में मस्जिदें नमाजियों से भर गईं। उलेमा ने रमजान को अल्लाह की इबादत में गुजारने की अपील की। जुमे में बाजारों में रौनक रही। लोगों ने इफ्तार के लिए खाद्य वस्तुओं और शीतल पेय आदि की खरीदारी की।

मुकद्दस रमजान के पहले जुमे को लोग सहरी में उठे और नाश्ता किया। लोगों ने दूध में मीठी ब्रेड, जलेबी, फेनी और खजला डालकर खाया। जुमे की नमाज में छप्पर वाली मस्जिद ब्रह्मपुरी, फक्करशाह चौक की मस्जिद, हौज वाली मस्जिद, लोहिया बाजार की मस्जिद, मस्जिद घास मंडी, खालापार की उमर फारूख मस्जिद, आर्य समाज रोड स्थित सादात हॉस्टल की मस्जिद, लद्दावाला की बड़ी मस्जिद, मल्हूपुरा मस्जिद, रेलवे स्टेशन के सामने की मस्जिद जुमे की नमाज में नमाजियों से भर गईं। छप्पर वाली मस्जिद में मौलाना मोहम्मद इमरान ने जुमे की नमाज से पूर्व कहा कि रमजान अल्लाह की इबादत का महीना है। इसमें रहमतों की बरसात होती है। इस माह में गुनाहों से तौबा करने पर अल्लाह माफ कर देता है। उन्होंने इस माह को अल्लाह की इबादत में गुजारने की अपील की। उन्होंने मुसलमानों से अपने अखलाक को अच्छा बनाने का आह्वान किया। रमजान के पहले जुमे को बाजारों में भीषण गर्मी के बावजूद चहल पहल देखी गई। लोगों ने इफ्तार के लिए फल, शर्बत, कोल्ड ड्रिक्स, लस्सी, पकौड़ी आदि खाद्य वस्तुओं और पेय पद्धार्थों की खरीदारी की।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran