मुजफ्फरनगर : गुर्जर सद्भावना सभा के तत्वावधान में गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की जयंती मनाई गई। इस दौरान उनके चित्र पर पुष्पांजलि देकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। वक्ताओं ने कहा कि गुर्जर सम्राट के शासनकाल में अरब खाड़ी के लोग राज्य में घुस नहीं सके थे। युवाओं को उनके आदर्शो को जीवन में अपनाना चाहिए। इस दौरान सभा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया।

रामपुर तिराहा स्थित गुर्जर छात्रावास में सम्राट मिहिर भोज की जयंती मनाई गई। पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं के अलावा युवाओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किए। पूर्व आइएएस रामशरण ¨सह ने उनके बारे में विस्तार से जानकारी दी। वक्ताओं ने कहा कि सम्राट मिहिर भोज के शासनकाल में राज्य में अरब खाड़ी के लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध था। युवा उनके आदर्शो को अपना कर सफल बनें। इस मौके पर मिहिर भोज ट्रस्ट ने समाज के उत्थान, निर्धन युवाओं की शिक्षा के लिए सहायता राशि उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। कार्यक्रम में गुर्जर सद्भावना सभा के कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता बाबा रतन ¨सह आर्य तथा संचालन ओम ¨सह मोतला व हिमांशु वर्मा ने संयुक्त रूप से किया। समारोह में पूर्व प्रधानाचार्य रामपाल ¨सह, अभिषेक चौधरी, बालकराम, टेकचंद वर्मा, धर्मपाल चौहान, पुष्पेंद्र कुमार, ओपी चौहान व संदीप कुमार आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran