जेएनएन, मुजफ्फरनगर। जानसठ में मीरापुर क्षेत्र के कैथोड़ा गांव में बस व ट्रैक्टर-टाली की भिड़ंत में घायल हुए लोगों के पहुंचने पर सीएचसी की व्यवस्था ध्वस्त दिखी। अस्पताल में केवल एक ही स्ट्रैचर होने के कारण घायलों को हाथों में उठाकर अस्पताल के अंदर तक ले जाना पड़ा।

सरकारी अस्पतालों की हालत इतनी खस्ता हो चली है कि यदि अधिक घायल आ जाएं तो हालात खराब दिखाई देते हैं। मीरापुर क्षेत्र में हुई दुर्घटना के बाद कई घायलों के एक साथ अस्पताल पहुंचने पर वहां की व्यवस्था ध्वस्त दिखी। इतने घायलों के एक साथ पहुंचने से अस्पताल के स्टाफ के हाथ-पैर फूल गए, जबकि सीओ शकील अहमद ने पहले ही सीएचसी प्रभारी को इसकी जानकारी दे दी थी, लेकिन घायलों को कई वाहनों में भरकर लाया गया तो सीएचसी पर एक ही स्ट्रेचर मिला, जिससे एक ही मरीज को इमरजेंसी कक्ष तक ले जाया जा रहा था। यह देख पुलिसकर्मी आगे आए और मरीजों को हाथों में उठाकर इमरजेंसी कक्ष तक पहुंचाया। इतना ही नहीं कारों और एंबुलेंस से मरीजों को उतारने के लिए भी पुलिसकर्मी और स्थानीय लोगों को सामने आना पड़ा।

किसी का पैर टूटा, किसी की आंख निकली

जेएनएन, मुजफ्फरनगर। जानसठ के मीरापुर क्षेत्र में हुई सड़क दुर्घटना में घायलों की हालत बहुत खराब थी। कई घायलों के पैर टूटे हुए थे तो एक की आंख ही निकल गई थी। कई बरातियों के सिर लहूलुहान हुए हैं।

जानसठ सीएचसी में कई वाहनों में भरकर लाए गए घायलों की हालत बहुत खराब थी। कई लोगों के पैर टूट गए थे, जबकि कई के सिर बुरी तरह से फटे हुए थे। एक घायल की तो एक आंख ही निकल गई थी। जैसे ही उन्हें लाया गया तो सीएचसी में खून ही खून बिखरा पड़ा हुआ था। एक व्यक्ति की सीएचसी में इलाज के दौरान मौत हो गई। सभी घायलों को प्राथमिक उपचार देकर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया।

दो बरातियों की मौत से शादी की खुशियां मातम में बदलीं

जेएनएन, मुजफ्फरनगर। भोपा में शादी की खुशियां कुछ ही देर में मातम में तब्दील हो गयीं। जिनको सजाकर भेजा गया था वह खून से लथपथ हो गए थे।

स्वजन को जैसे ही यह जानकारी मिली कि बरात से भरी बस की ट्राले से भिड़ंत हो गयी तथा दो बरातियों की मौत हो गई और कई बराती घायल हो गए तो गांव मे हड़कंप मच गया। हर कोई अपनों की खबर लेने में जुट गया। दो बरातियों की मौत से शादी की खुशियां मातम में बदल गई।

भोपा थाना क्षेत्र के कसौली गांव में कामेश के बेटे गगन की बरात बुधवार सुबह रामराज जा रही थी। जैसे ही बरात मीरापुर के पास गांव में पहुंची तभी बरात की बस की ट्राले से टक्कर हो गई है। हादसे में बराती आत्माराम 65 वर्ष व नीशु 55 वर्ष की मौत हो गई। दूल्हे के पिता कामेश व महेंद्र सहित लगभग एक दर्जन बराती गंभीर रूप से घायल हो गए। घायल बरातियों को जिला चिकित्सालय रेफर किया गया। गांव में आत्माराम व नीशू की दुर्घटना में मौत से स्वजन में कोहराम मच गया है तथा गांव में शोक की लहर दौड़ गई है और शादी की खुशियां मातम में बदल गई।

Edited By: Jagran