मुजफ्फरनगर, जेएनएन। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में बायोडीजल पंप की आड़ में अवैध पेट्रोल-डीजल की बिक्री का धंधा बढ़ गया है। कई गांवों में बायोडीजल पंप के लिए मशीन लगाकर अलग से पेट्रोल और डीजल बेचा जा रहा है। उच्च अधिकारियों से शिकायत होने के बाद कुछ पंपों पर कार्रवाई भी हुई, लेकिन विभागीय लापरवाही के कारण अवैध तेल की बिक्री बंद नहीं हुई है।

पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ने के साथ तेजी से अवैध तेल की बिक्री भी बढ़ी है। अवैध तरीके से लगे बायोडीजल पंप से मिलावटी पेट्रोल और डीजल बिक्री को कारोबार फैलता जा रहा है। सदर तहसील सहित जानसठ और खतौली तहसील में एसडीएम के नेतृत्व में कुछ पंपों पर कार्रवाई भी हुई, लेकिन उसके बाद भी यह अवैध धंधा जारी है। इसी माह सदर तहसील के सुवाहेड़ी में एसडीएम के आदेश पर पूर्ति निरीक्षक ने कार्रवाई की थी, लेकिन सदर तहसील के ही सैदपुरा सहित कई गांवों में बायोडीजल बिक्री के लिए लगी मशीनें नहीं हटी हैं। बायोडीजल पंप संचालक वहीं से मिलावटी पेट्रोल और डीजल बेचने के कारोबार में लगे हैं।

--

बिना एनओसी स्थापित हुए बायोडीजल पंप

कृषि यंत्रों में प्रयोग के लिए बायोडीजल की बिक्री को प्रदेश के कुछ जिलों में मंजूरी मिली थी, लेकिन मुजफ्फरनगर में इस प्रकार के पंप के लिए पूर्ति विभाग से कोई एनओसी जारी नहीं हुई है। अवैध तरीके से बायोडीजल पंप लगाकर मिलावटी पेट्रोल और डीजल ग्राहकों को बेचकर संचालक विभाग की लापरवाही को आइना दिखा रहे हैं।

इन्होंने कहा

जनपद में बायोडीजल पंप के लिए कोई एनओसी नहीं जारी हुई है। बायोडीजल की बिक्री के लिए पूर्ण गाइडलाइन स्पष्ट नहीं है। इन पंपों पर पेट्रोल और डीजल की बिक्री पूर्ण रूप से अवैध है। कई पंपों पर कार्रवाई भी की गई है।

- बीके शुक्ला, डीएसओ

Edited By: Jagran