मुजफ्फरनगर, जेएनएन। डीसीएम के गंगनहर में समाने के बाद हालांकि भारी ट्रैफिक को बंद कर दिया गया है लेकिन पुलिस की कृपा से अभी भी पुल से भारी वाहनों का संचालन किया जा रहा है। इससे कभी भी दिन बड़ा हादसा हो सकता है, लेकिन पुलिस बेफिक्र दिखाई दे रही है।

क्षतिग्रस्त गंगनहर के पुल से भारी वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया है, लेकिन अभी भी प्राइवेट बसें व ट्रक आदि बेखौफ पुल से गुजरते दिखाई दे रहे है। इस कारण कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है। जबकि गंगनहर पर बनी चेकपोस्ट पर बैठे पुलिसकर्मी आराम फरमाते दिखाई दे रहे हैं। क्षतिग्रस्त पुल से स्कूलों की बड़ी बसें भी बेखौफ गुजर रही है। ईश्वर न करे यदि कोई अनहोनी हो गई तो बड़ा हादसा हो सकता है।

जर्जर हालत में गंगनहर का पुल

गंगनहर का पुल जर्जर स्थिति में पहुंच चुका है कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। पुल पर गड्ढे हो गए हैं लेकिन कोई भी उनकी मरम्मत करने को तैयार नहीं है। पुल के किनारे बनी दीवारें हिल रही है जो कभी भी गंग नहर में समा सकती है। पुल 170 साल पुराना होने के कारण उसकी नींव में भी कई दरारें दिखाई दे रही हैं। जिसके चलते पुल कभी भी गिर सकता है।

नहीं दिखाई दे रही डीसीएम

गंगनहर में गिरी डीसीएम पानी में पूरी तरह से समा गई है। उसका एक भी हिस्सा ऊपर से दिखाई नहीं दे रहा है। ड्राइवर ने बताया कि डीसीएम में करीब 15 टन सरिया भरा हुआ था। डीसीएम गिरने के बाद उसके चालक व परिचालक भी अपने घर को रवाना हो गए। जबकि पुलिस डीसीएम को निकालने का कोई प्रयास नहीं कर रही है। एसओ अजय कुमार ने बताया कि डीसीएम के मालिक के आने पर ही डीसीएम निकालने का प्रयास किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस