मुजफ्फरनगर : विघ्नविनाशक, सिद्धिविनायक भगवान गणपति के जन्मोत्सव पर बैंडबाजों व आकर्षक झांकियों के साथ भव्य शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में गणपति की आरती उतारने और स्वर्णरथ को खींचने के लिए भक्त आतुर थे। श्रद्धालुओं की सैलाब उमड़ रहा था। शोभायात्रा मार्ग में जगह-जगह प्रसाद का वितरण हो रहा था।

श्रीगणेश महोत्सव पर शुक्रवार से कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है जो तीन सितंबर तक चलेगा। श्रीगणपति धाम मंदिर परिवार भरतिया कालोनी के तत्वावधान में गणेश धाम मंदिर पर पार्वती नंदन, कष्टहर्ता, विघ्नविनाशक सिद्धिविनायक भगवान गणपति का भव्य श्रृंगार कर पूजा-अर्चना हुई। छप्पन भोग लगाया। आरती उतारी और स्वर्णरथ में विराजमान किया। इसके साथ ही बैंडबाजों व आकर्षक झांकियों के साथ शोभायात्रा सुबह 10.30 बजे शुरू हुई। शोभायात्रा में आगे घुड़सवार गणपति महाराज का झंडा लिए चल रहा था। उसके पीछे ढोल ढपड़े, बैंडबाजे व आकर्षक झांकियां चल रही थी। यात्रा मंदिर से शुरू होकर नवीन मंडी स्थल, बाबूराम गेट, रजवाहा रोड, बड़ा डाकखाना, गऊशाला रोड, वकील रोड, मेहता क्लब, ¨बदल बाजार, चौड़ी गली, पीठ बाजार, वकील रोड, गऊशाला रोड, भोपा रोड ओवर ब्रिज, अंसारी रोड, रुड़की रोड, शिवचौक, बालाजी चौक, मालवीय चौक से गांधी कालोनी लक्ष्मी नारायण मंदिर, द्वारिकापुरी, भोपा पुल के बराबर से पुरानी गुड़ मंडी, पीएनबी बैंक, जानसठ रोड, भरतिया कालोनी होते हुए मंदिर प्रांगण में देर रात संपन्न हुई। शोभायात्रा में गणपति के भजनों पर श्रद्धालु झूमते गाते चल रहे थे। गणपति यात्रा में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी थी। गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ आदि जयकारे लग रहे थे। भीमसेन कंसल, अनिल गोयल, अमरीश ¨सघल, जेपी, कैलाशचंद ज्ञानी, ओमप्रकाश कुच्छल, अंकित, कुलदीप, संजीव, विनोद, रजत, योगेश, अतुल, विपिन, ललित आदि का सहयोग रहा।

गणेशमय हुआ वातावरण

गणपति की शोभायात्रा में शहर का वातावरण गणेशमय हो गया। चहुंओर गणपति के भजन गुंजायमान थे। कहीं बैंडबाजों की धुन पर तो कहीं डीजे पर गणेश के भजन सुनाई दे रहे थे।

ये रहीं आकर्षक झांकियां

मानव स्ट्रेच्यू, पांच काली का विराट रूप, शिव अंधौरी, उड़े-उड़े बजरंगबली, देशभक्ति, खाटू श्याम का विशाल रथ, रजत पालना आदि झांकियां आकर्षण बनी रहीं। सभी झांकियां श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर रही थीं।

स्वर्णरथ खींचने को आतुर रहे भक्त

स्वर्णरथ पर विराजमान भगवान गणपति के रथ को खींचने के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा था। भक्तों में रथ को खींचने के लिए होड़ लगी थी।

जगह-जगह उतारी आरती

भगवान गणपति की के स्वागत के लिए भक्त थाली लेकर जगह-जगह खड़े थे। जैसे ही स्वर्णरथ पर चलकर गणपति भक्तों के निवास या प्रतिष्ठानों के सामने आए तो भक्तों ने आरती उतारकर स्वागत किया। घर परिवार की सुख समृद्धि व शांति के लिए कामना की।

भव्य रूप से सजाया गया मार्ग

शोभायात्रा से एक दिन पूर्व ही यात्रा का मार्ग तोरणद्वारों, गणपति की पीली झंडियों से भव्य रूप से सजाया गया।

जगह-जगह प्रसाद का वितरण

शोभायात्रा के स्थानों पर जगह-जगह प्रसाद का वितरण हो रहा था। कहीं कढ़ी चावल तो कहीं खस्ता, जलेबी, लड्डू, गुलदाना, जलजीरा, केला, सेव आदि का वितरण हो रहा था। बड़ी संख्या में श्रद्धालु प्रसाद ग्रहण कर रहे थे।

Posted By: Jagran