मुजफ्फरनगर, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में दिल्ली में हुए उपद्रव में मारे गए बुढ़ाना क्षेत्र के गांव इटावा निवासी और आईबी के सुरक्षा सहायक अंकित शर्मा को शिवचौक पर श्रद्धांजलि दी गई। उनकी अस्थि कलश यात्रा पर राज्यमंत्री समेत गणमान्य लोगों ने फूल बरसाए। अंकित शर्मा अमर रहे के नारे गूंजते रहे।

बीते दिनों दिल्ली में हुए उपद्रव में गांव इटवा निवासी अंकित शर्मा की उपद्रवियों ने हत्या कर दी थी। उनका शव नाले में पड़ा मिला था। गुरुवार को गांव में सैनिक का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ था। केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान समेत डीएम सेल्वा कुमारी जे और एसएसपी अभिषेक यादव गांव में पहुंचकर श्रद्धांजलि दी थी। शनिवार को स्वजन अस्थि कलश लेकर हरिद्वार के लिए रवाना हुए। जैसे ही शिवचौक पर पहुंचे राज्यमंत्री कपिल देव अग्रवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष विजय शुक्ला समेत समेत बड़ी संख्या में गणमान्य लोगों ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मृतक की आत्मा की शांति के लिए हाथ जोड़कर नमन किया गया। साथ ही भारत माता की जय, अंकित शर्मा अमर रहे के नारे लगा गए। शिवचौक पर काफी देरी तक लोगों ने फूल बरसाए। भीड़ के चलते अव्यवस्था भी दिखाई दी। कुछ कार्यकर्ता एक दूसरे को पीछे धकेलने में लगे रहे। यहां से स्वजन अस्थि कलश लेकर हरिद्वार के लिए रवाना हो गए। मृतक के भाई अंकुर शर्मा ने अंकित शर्मा को शहीद का दर्जा देने की मांग की है। इस दौरान विपुल बहेड़ी एडवोकेट, सुनील तायल, राकेश शर्मा, हरेंद्र शर्मा आदि मौजूद रहे। राष्ट्रवादी ब्राह्मण महासंघ के पदाधिकारियों उमादत्त शर्मा, सुबोध शर्मा, सुभाष गौतम, सतीश कौशिक, राजकिशोर शर्मा, प्रमोद शर्मा, जयभगवान शर्मा, विनोद शर्मा, तरुण शर्मा, निशा शर्मा आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस