मुजफ्फरनगर : लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को महिला मल्ल दिव्या काकरान को रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड से पुरस्कृत किया। अवार्ड पाकर दिव्या गद्गद हो गई। मुख्यमंत्री ने जनपद की बेटी को आशीर्वाद दिया और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। दिव्या के साथ उनके पिता भी मौजूद रहे। दिव्या कहती हैं कि उनका एकमात्र लक्ष्य देश के लिए गोल्ड जीतना है, जिसकी तैयारी में वह लगी हैं। कुश्ती में विपक्षी को पटखनी देने के लिए वह गुर सीख रही है।

जनपद के मंसूरपुर क्षेत्र के पुरबालियान गांव निवासी दिव्या काकरान ने देश-विदेश में प्रतिभा का डंका बजाया है। इंडोनेशिया के जकार्ता में हुए एशियन गेम्स में दिव्या ने कांस्य पदक जीतकर भारत का नाम रोशन किया। केंद्र और प्रदेश सरकार ने दिव्या को पदक जीतने पर इनाम दिया। वह देहात में उभरती युवा महिला पहलवानों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गई हैं। खेतों में अखाड़ा बनाकर कुश्ती का अभ्यास किया है। अनेक राज्यों में कुश्ती के बल पर वह केसरी अवार्ड से नवाजी जा चुकी हैं। चौधरी चरण ¨सह विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण कर रही दिव्या दिल्ली में कुश्ती के गुर सीख रही हैं। लखनऊ में गुरुवार को आयोजित हुए सम्मान समारोह में दिव्या को पुरस्कृत किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिव्या को रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड से नवाजा है। अवार्ड के साथ इनामी राशि तीन लाख 11 हजार रुपये भी दिए गए। अवार्ड पाकर दिव्या गद्गद हैं। वह कहती हैं कि अब उनका लक्ष्य भारत के लिए कुश्ती में गोल्ड मेडल जीतना है। आगामी इंटरनेशनल प्रतियोगिताओं के लिए कुश्ती की बारीकियां सीख रही हैं। उसे अवार्ड मिलने पर पिता सूरजवीर काकरान ने हर्ष व्यक्त किया है। साथ ही पुरबालियान गांव में खुशी का माहौल है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस