मुजफ्फरनगर, जेएनएन। कोविड-19 से चल रही लड़ाई में लोग घर-परिवार से दूर रहकर फर्ज को अन्जाम देने में जुटे हैं। पुलिस विभाग की महिला आरक्षी सुषमा भी उनमें से एक हैं। वह घर से सात माह से दूर हैं और अपने बेटी के साथ रहकर पुलिस में तैनात हैं।

अमरोहा के मंडी धनौरा निवासी आरक्षी सुषमा कोतवाली में तैनात हैं। घर-परिवार से दूर वह सात माह की बेटी उरमी संग अपने फर्ज को पूरा कर रही हैं। तीन साल से थाने में तैनात सुषमा ने बताया कि वर्ष 2014 अमरोहा के देहरा निवासी पुष्पेंद्र कुमार से शादी हुई थी। पति सिंचाई विभाग में नजीबाबाद में तैनात हैं। बताया कि वह तीन माह पूर्व छुट्टी पर घर गई थीं। इसी बीच कोरोना संक्रमण फैला तो ड्यूटी पर आना पड़ा। सुषमा की ड्यूटी खाइखेड़ी रोड पर लगे बैरियर पर है, जहां वह बेटी के साथ कड़ी धूप में भी डयूटी करती नजर आती हैं।

हर बंधन पर भारी कर्तव्य

सुषमा का कहना है कि पति, मासूम बेटी और फर्ज को लेकर परेशानी तो होती है लेकिन कर्तव्य हर रिश्ते पर भारी है। एक अन्य महिला कांस्टेबल ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि फर्ज को पूरा करने के लिए उन्होंने फिलहाल अपनी शादी रोक दी है। कई माह से घर भी नहीं जा पाई हैं। बहन की शादी को भी बीच में ही छोड़कर वह डयूटी पर लौट आई थीं। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस