जेएनएन, मुजफ्फरनगर। राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल के पत्र पर सीएमओ डा. एमएस फौजदान ने अपने पूर्व के नियमों में बदलाव किया है। किसी भी पंजीकृत चिकित्सक के पर्चे पर आक्सीजन सिलेंडर मिलेगा। साथ ही होम आइसोलेट मरीजों का आक्सीजन लेवन आशाएं चेक करेंगी। इसके आधार पर भी आक्सीजन सिलेंडर मिल सकेगा।

आक्सीजन की मारामारी के बीच सीएमओ ने आदेश जारी किए थे कि केवल एमबीबीएस चिकित्सक के पर्चे पर ही आक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। बीएएमएस समेत गांव-देहात के चिकित्सक के पर्चे पर आक्सीजन सिलेंडर नहीं मिलेगा। इस पर राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल ने नाराजगी जताते हुए सीएमओ को बुधवार को पत्र लिखा था। उन्होंने कहा था कि गांव-देहात में एमबीबीएस चिकित्सक नाममात्र को हैं। कोरोना संक्रमण से शहर समेत ग्रामीण भी जूझ रहे हैं। उन्हें भी समय से आक्सीजन मिलनी चाहिए। ऐसे में सभी पंजीकृत चिकित्सकों के पर्चे पर आक्सीजन दी जानी चाहिए। इस पर सीएमओ ने गुरुवार को आदेश जारी किए हैं कि सभी पंजीकृत चिकित्सकों के पर्चे पर आक्सीजन दी जाएगी। केवल एमबीबीएस चिकित्सक ही आक्सीजन लिख सकेंगे, ऐसी कोई बाध्यता नहीं है। नागरिकों से अपील की कि पंजीकृत चिकित्सकों से ही उपचार कराएं। किसी भी झोलाछाप से इलाज न कराएं।

दवा व्यापारियों ने दिया 10 फीसदी छूट का आश्वासन

मुजफ्फरनगर : दवा की कालाबाजारी पर राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल ने अधिकारियों से अंकुश लगाने की बात कही थी। इस पर प्रशासन ने दवाओं की रेट लिस्ट जारी की है। वहीं राज्यमंत्री ने मुजफ्फरनगर केमिस्ट एंड ड्रग एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सुभाष चौहान से बात की। कहा कि महामारी के कठिन समय में कोरोना के मरीजों को दवाइयां पर 10 फीसदी छूट दी जाए। जिलाध्यक्ष के कहने पर एसोसिएशन के सभी पदाधिकारी सहमत हो गए। राज्यमंत्री, एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ मेडिकल स्टोर पर भी गए और उनसे छूट की अपील की। इस दौरान एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सुभाष चौहान, महामंत्री संजय गुप्ता साथ रहे।