मुजफ्फरनगर, जेएनएन। दिल्ली हिंसा की भेंट चढ़े आइबी कर्मी अंकित शर्मा का शव पैतृक गांव इटावा लाया गया। जहां उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ गार्ड ऑफ ऑनर देकर किया गया। अंतिम यात्रा में केंद्रीय राज्यमंत्री, आइजी लक्ष्मी सिंह, नेताओं समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध की आड़ में दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए आइबी कर्मी अंकित शर्मा का पार्थिव शरीर गुरुवार शाम करीब पांच बजे पैतृक निवास गांव इटावा पहुंचा। शव को देखते ही एकत्र स्वजनों में कोहराम मच गया। महिलाओं का रुदन देख वहां मौजूद हर किसी की आंखें नम हो गईं। केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने दुख की इस घड़ी में स्वजनों को सांत्वना दी। इसके बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया।

पूरी यात्रा के दौरान शहीद अंकित शर्मा अमर रहे, भारत माता की जय व वंदे मातरम के नारों से गांव की गलियां गूंज उठीं। यात्रा के दौरान सीएए व एनआरसी के समर्थन में भी नारे लगे। आइजी लक्ष्मी सिंह ने अंत्येष्टिस्थल पहुंचकर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। अंत्येष्टि स्थल पर गार्ड ऑफ ऑनर देकर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शव को मुखाग्नि मृतक के भाई अंकुर ने दी।

केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। दोषी किसी भी जाति या धर्म का हो, उसे सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अंकित के परिजनों की हर संभव मदद की जाएगी। इस बारे में उनकी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी बात हुई है। ग्रामीणों द्वारा अंकित की स्मृति में एक सड़क और गेट का निर्माण कराने की भी मांग रखी गई।

पार्षद पर लगाया हत्या का आरोप

अंतिम संस्कार के बाद मीडियाकर्मियों से बात करते हुए मृतक अंकित के पिता रविंद्र शर्मा ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन ने दंगाइयों को शरण दी। परिजनों ने पार्षद पर अंकित की हत्या का दोषी होने का आरोप लगाया। बता दें कि गुरुवार की शाम दिल्ली के दयालपुर थाने में ताहिर हुसैन पर अंकित की हत्या के आरोप में मुकदमा कायम कर दिया गया है।

पिता भी आइबी कर्मी हैं

अंकित शर्मा आइबी में सुरक्षा सहायक थे। अंकित के पिता रविंद्र शर्मा भी आइबी में ही कार्यरत हैं। दिल्ली के खजूरी में मकान बनाकर पत्नी सुधा, दो पुत्रों अंकुर शर्मा व मृतक अंकित शर्मा तथा पुत्री सोनम के साथ रह रहे थे। अंकित शर्मा की आइबी में तीन वर्ष पूर्व ही नौकरी लगी थी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस