जेएनएन, मुजफ्फरनगर। विधिक माप विज्ञान विभाग ने छह कंपनियों पर अलग-अलग मामलों में 5.20 लाख रुपये का शमन शुल्क लगाया, जो संबंधित कंपनियों ने जमा करा दिया है।

विधिक माप विज्ञान विभाग के वरिष्ठ निरीक्षक हरीश कुमार प्रजापति ने बताया कि वैद्यनाथ ब्रांड के नाम से शुद्ध घी को आनलाइन बेचने वाली कोलकाता की रियान वेलनेस कंपनी के पोर्टल पर 900 मिली का पैक विक्रय किया जा रहा था। विदित है कि 900 मिली का शुद्ध घी का पैक मानक पैकेज नहीं है। नोटिस दिए जाने के बाद कंपनी ने न केवल विभागीय शमन के लिए आवेदन किया बल्कि अपनी वेबसाइट पर नियमों का आवश्यक अनुपालन सुनिश्चित करते हुए एक लीटर की पेकिग बेचना शुरू किया और शमन के रूप में 1.25 लाख रुपये का भुगतान किया। बाईटफुल ब्रांड के नाम से आनलाइन बिस्कुट बेचने वाली हैदराबाद की कंपनी के पोर्टल पर 480 ग्राम बिस्कुट का पैक आनलाइन बेचा गया। बिस्कुट का अमानक पैक बेचने पर नोटिस देने के बाद कंपनी से 1.25 लाख रुपये का शमन शुल्क वसूल किया। कूलबर्ग ब्रांड से आनलाइन शीतल पेय बेचने वाली मुंबई की कूलबर्ग बीवरेजेस कंपनी द्वारा बेचे गए शीतल पेय के पैकेज पर अनिवार्य घोषणाएं नहीं थीं। घोषणाएं नियमानुसार न पाए जाने पर विभाग ने एक लाख रुपये का शमन शुल्क वसूल किया। वाइल्डक्राफ्ट ब्रांड से आनलाइन पिट्ठू बैग बेचने वाली बंगलौर की कंपनी के पोर्टल पर नियमानुसार अनिवार्य घोषणाएं नहीं पाए जाने पर कंपनी ने 70 हजार रुपये शमन शुल्क जमा कराया। इसके अलावा हल्दीराम नागपुर एवं विप्रो एंटरप्राइजेज बंगलौर ने क्रमश: स्क्वैश व साबुन के पैक मानक के अनुसार नहीं बेचे जाने पर 50-50 हजार रुपए शमन शुल्क जमा कराया।

Edited By: Jagran