जेएनएन, मुरादाबाद। कक्षा छह की छात्र के साथ हुई घटना में एसपी के आदेश पर स्कूल प्रबंधक के बेटे के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

डिडौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में सोमवार को कक्षा छह की छात्र को बेहोश कर स्कूल प्रबंधक के बेटे ने कमरे में बंद कर दिया था। उसके साथ अश्लील हरकत की गई थी। सूचना पर डॉयल-112 की टीम ने मौके पर जाकर छात्र को कमरे से बाहर निकाला था। आरोप है कि आरोपित परिवार के साथ ही पुलिस ने छात्र की मां पर दबाव बनाकर 62 हजार रुपये में जबरन फैसला करा दिया। यह मामला मंगलवार को उस समय सुर्खियों में आ गया जब पीडि़ता की मां की वीडियो वायरल हुई। जिसमें उसने पुलिस पर जबरन फैसला कराने का आरोप लगाया। बुधवार को भी पीडि़त परिवार को घर से बाहर नहीं निकलने दिया गया। दबंगों द्वारा उन्हें नजरबंद कर दिया गया था। इसकी जानकारी एसपी डॉ. विपिन ताडा को मिली तो उन्होंने महिला थाना प्रभारी को टीम के साथ गांव भेजा तथा मां-बेटी को वहां से बुलवा कर महिला थाने भेज दिया। दोपहर बाद इस मामले में एसपी के आदेश पर छात्र की तहरीर पर पुलिस ने स्कूल प्रबंधक के बेटे शिक्षक कामरान के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया है। एसपी ने फैसला कराए जाने के मामले की जांच एएसपी अजय प्रताप को सौंपी है। एसपी ने बताया आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। मामले की जांच एएसपी को सौंपी है।

स्कूल प्रबंधक के बेटे पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज

पति की दूसरी शादी का विरोध किया तो मारपीट कर घर से निकाल दिया। इससे पहले देवर ने दुष्कर्म किया। मायके में रह रही विवाहिता को पति व ससुरालियों ने पीटा तथा पति तीन तलाक दे गया। इस मामले में एसपी के आदेश पर पति समेत पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

यह मामला डिडौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव का है। यहां रहने वाले किसान ने 13 साल पहले बेटी की शादी मुरादाबाद के जयंतीपुर से की थी। शादी के बाद परिवार में चार बच्चे हुए। इस बीच पति दूसरी शादी करने की तैयारी करने लगा। विवाहिता ने विरोध किया तथा ससुरालियों से शिकायत की तो उन्होंने भी पति का ही साथ दिया और दहेज लाने का दबाव बनाने लगे।

आरोप है कि इस दौरान देवर ने विवाहिता के साथ दुष्कर्म किया। इस घटना के बाद विवाहिता को मारपीट कर घर से निकाल दिया। वह मायके में आकर रहने लगी। 14 फरवरी को पति, ससुर, सास, देवर व एक अन्य उसके मायके आए तथा मारपीट करने लगे। पति ने तीन तलाक दे दिया।

गांव के लोग मौके पर जमा हुए तो आरोपित भाग निकले। पीडि़ता ने डिडौली कोतवाली में तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया। लिहाजा पीडि़ता ने एसपी डॉ. विपिन ताडा को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई कराने की मांग की। एसपी के आदेश पर डिडौली पुलिस ने पति, ससुर, देवर, सास समेत पांच लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीडऩ, मारपीट, तीन तलाक व दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया है। प्रभारी निरीक्षक शरद मलिक ने बताया मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस