रामपुर, जेएनएन। UP Vidhan Sabha Election 2022 : कांग्रेस का टिकट मिलने के अगले दिन ही सपा में शामिल हुए पूर्व विधायक अली यूसुफ अली ने सपा मुखिया अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कहा कि वह भाजपा के एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं और मुसलमानों को दोखा दे रहे हैं। यूसुफ अली चमरौआ से 2012 में बसपा के टिकट पर विधायक बने थे। इसके बाद 2017 में भी बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े, लेकिन बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए।

कांग्रेस ने उन्हें प्रदेश महासचिव भी बना दिया। चमरौआ विधानसभा सीट से प्रत्याशी भी घोषित कर दिया। लेकिन, इसके अगले दिन 14 जनवरी को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ सपा के कार्यक्रम में लखनऊ पहुंचे, जहां सपा मुखिया अखिलेश यादव ने उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई। उन्हें उम्मीद थी कि चमरौआ सीट से सपा का टिकट मिल जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

समाजवादी पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया, बल्कि विधायक नसीर खां को प्रत्याशी बना दिया। टिकट न मिले से खफा यूसुफ अली ने सपा मुखिया के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कहा है कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उनसे वादा किया था कि चमरौआ से सपा का टिकट देंगे। उनके खिलाफ षडयंत्र रचा।

अखिलेश ने पूरे मुस्लिम समाज के साथ धोखा किया है। इससे जाहिर होता है कि अखिलेश मुस्लिम विरोधी हैं और लगातार मुस्लिम नेताओं का गला काट रहे हैं। मुस्लिम समाज के साथ अन्याय कर रहे हैं। जहां भी मुस्लिम नेता जीतने के कगार पर हैं, उन्हें धोखा देकर खत्म करने में लगे हैं। वह भाजपा एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं, जहां के नेता सीट जीत सकते है, उन्हीं के साथ षडयंत्र कर रहे हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से मांगी माफीः सपा मुखिया पर आरोप लगाने के साथ ही यूसुफ अली ने प्रियंका गांधी से माफी मांगी है। कहा है कि अगर मेरी गलती से कोई पीड़ा पहुंची हो तो मैं माफी मांगता हूं। मैं पार्टी में वफादारी से रहना चाहता हूं, आगे कोई गलती नहीं करूंगा।

Edited By: Samanvay Pandey