रामपुर, जेएनएन। UP Election 2022 : जिले की दो विधान सभा सीटें गठबंधन के खाते में जा सकती हैं। जिले में पांच सीटें हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस का सपा से गठबंधन था, तब बिलासपुर सीट कांग्रेस के खाते में गई थी। इस बार सपा और रालोद का गठबंधन हैं। अब यह सीट के रालोद के खाते में जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। भाजपा का अपना दल और निषाद पार्टी से गठबंधन है। स्वार-टांडा सीट इनके खाते में जा सकती है। पिछले दिनों अपना दल के नेताओं ने इस क्षेत्र का दौरा भी किया। प्रदेश के कारागार राज्यमंत्री भी आए।

रामपुर जिले में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है, लेकिन सियासी पारा हाई है। कांग्रेस ने गुरुवार अपने प्रदेश महासचिव अली युसूफ अली को चमरौआ सीट से प्रत्याशी बनाया था। एक दिन बाद ही शुक्रवार को वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। इसी तरह विधान परिषद सदस्य घनश्याम सिंह लाेधी को शुक्रवार को सपा ने निष्कासित कर दिया है, जबकि लोधी का कहना है कि वह दो दिन पहले ही सपा छोड़ चुके हैं। सियासी उठापटक के बीच गठबंधन दल भी जिले में अपने प्रत्याशी उतारने पर विचार कर रहे हैं। बिलासपुर सीट से रालोद प्रत्याशी बनने की चर्चा जोरों पर है।

पिछले चुनाव में कांग्रेस का सपा से गठबंधन था, तब इस सीट पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव संजय कपूर चुनाव लड़े थे। इस बार भी वह कांग्रेस के प्रत्याशी हैं। बिलासपुर में सिख मतदाता भी बड़ी तादाद में हैं। इस कारण कई सिख नेता रालोद का टिकट लेने के लिए प्रयासरत हैं। स्वार-टांडा सीट पर भी भाजपा गठबंधन दल के अपना दल और निषाद पार्टी प्रत्याशी उतारने पर विचार कर रहे हैं। भाजपा सीट देगी या नहीं, इसे लेकर भाजपा के जिलाध्यक्ष अभय गुप्ता का कहना है कि अभी उनकी जानकारी में हाईकमान की ओर से ऐसी कोई बात नहीं आई है कि सीट गठबंधन को जा रही है या नहीं। अभी सिर्फ चर्चा है।

Edited By: Samanvay Pandey