मुरादाबाद, जेएनएन। कुंदरकी पुलिस नेतीन युवकों को गिरफ्तार कर तेवर पट्टïी उर्फ काजीपुरा निवासी ई-रिक्शा चालक हरज्ञान की हत्या का पर्दाफाश कर दिया। पुलिस के मुताबिक कुंदरकी के सूफियान ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर पत्नी के चक्कर में हरज्ञान की शराब पिलाकर हत्या की थी।

यह है पूरा मामला

पुलिस लाइन में पत्रकारों को ब्रीफिंग करते हुए एसपी ट्रैफिक सतीश चंद्र ने बताया कुंदरकी के मुहल्ला सादात पश्चिमी निवासी सूफियान, कायस्थान निवासी संदीप उर्फ कलवा और मुहल्ला कुरैशियान निवासी अरवाज हरज्ञान के दोस्त थे। यह सभी अक्सर ईदगाह के पास शराब पीते थे। सूफियान और हरज्ञान का खेत आसपास था। इसे हरज्ञान के परिजनों ने बेच दिया था। हरज्ञान की पत्नी और काजीपुरा की कुछ महिलाएं पशुओं के लिए इन्हीं खेतों के आसपास घास लेने आती थीं। इस दौरान सूफियान की नजर हरज्ञान की पत्नी पर पड़ गई। सूफियान का उससे मिलना-जुलना शुरू हो गया था। हरज्ञान को सूफियान और उसके दोनों दोस्तों पर शक हो गया, इसलिए वह उन्हें पंसद नहीं करने लगा। शराब की आदत होने का तीनों ने फायदा उठाया और उसे रास्ते से हटाने की योजना बना ली।

देशी शराब की दुकान पर ले गए

14 नवंबर को योजना के तहत तीनों उसे हरियाना गांव की देशी शराब की दुकान पर ले गए। संदीप अपने दोस्त टिंकू वाल्मीकि की बाइक बच्चे को दवा दिलाने के बहाने मांगकर लाया। आरोपित शराब की दुकान के सामने ही चकरोड पर बैठकर शराब पीने लगे। हरज्ञान नशे में धुत हुआ तो तीनों ने उसे उसी की ई-रिक्शा में बैठा लिया। ई-रिक्शा सड़क के नीचे उतारकर वह उसे खाली खेत में खींचकर ले गए। अरवाज ने जेब से जूते का फीता निकालकर कलवा को दिया। अरवाज ने हरज्ञान के दोनों हाथ पकड़ लिए और सूफियान ने पीछे से पकड़ लिया। संदीप ने फीते से उसकी गला घोटकर हत्या कर दी। सूफियान ने हरज्ञान के मुंह पर घूंसे मारे। पहचान छिपाने के लिए उसकी घड़ी, आधार कार्ड और मोबाइल ले लिया। मोबाइल को तोड़कर गन्ने के खेत में फेंक दिया। हत्या के बाद सूफियान संजय के नलकूप पर पहुंचा। वहां उसे आसिफ मिल गया। उसने आसिफ से कहा शराब की दुकान के पास मर्डर हो गया तू अपने साले अरवाज को ढूंढकर घर ले जा। उन्होंने ई-रिक्शा थाना मैनाठेर क्षेत्र में छोड़ दिया। पुलिस ने ई-रिक्शा, मोबाइल, घड़ी और आधार कार्ड बरामद कर लिया है। अरवाज और संदीप के खिलाफ पहले से भी मुकदमे दर्ज हैैं।

आसिफ से मिला था सुराग

पुलिस का दावा है कि आसिफ का साला सूफियान मीट का काम करता है। अरवाज और संदीप आवारा किस्म के हैैं। आसिफ को पहले ही दिन से शक था कि हत्या इन्हीं लोगों ने की है। उसी के जरिए पुलिस को सूफियान मिला और फिर कड़ी खुलती गई। पुलिस ने 16 दिन में घटना का खुलासा कर दिया।

यह था मामला

थाना कुंदरकी के प्रभारी प्रेमपाल सिंह ने बताया कि 15 नवंबर को ग्राम तेवर पट्टïी उर्फ काजीपुरा निवासी अतरेश की तहरीर पर उसके पति हरज्ञान (40) की हत्या के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा लिखा गया था। हरज्ञान 14 नंवबर को ई-रिक्शा लेकर घर से निकले थे। अगले दिन हरियाना में शराब की दुकान के पास उनका शव मिला। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से गला घोटकर हत्या होने की पुष्टि हुई थी।

पर्दाफाश करने वाली टीम

एसओ प्रेमपाल सिंह, दारोगा अमरपाल सिंह, जनप्रिय गौड़, लाजपत सिंह, सिपाही वरुण कुमार, मुहम्मद नासिर, आकाश, अखिलेश, विवेक कुमार, अफसर अली, इकरार, दिग्विजय, सुंदर और शान मुहम्मद ने इस घटना का पर्दाफाश किया है। एसएसपी ने सभी को सराहा है। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस