डांडिया रास में सजी सुरमयी शाम, गायक जसमानक और निधि की गीतों पर झूमे लोग

 मुरादाबाद शहर में रविवार को ऐसा रंग जमा कि सुरमयी शाम ने आधी रात को जाकर विराम लिया। मौका था दैनिक जागरण के पारिवारिक महोत्सव डांडिया रास का। पंजाबी गायक जस मानक की सुरीली आवाज पर पूरा शहर झूम उठा। गीतों पर लोग दिल खोलकर थिरके। अपनी दिलकश आवाज, मोहक अंदाज, बिंदास सुर और उस पर फिदा कर देने वाली अदाओं ने एमआइटी परिसर में ऐसा रंग जमाया कि एक इतिहास बन गया। 

मुकदमों के बोझ से आजम खां की हो गई ऐसी हालत, घटा 22 किग्रा वजन

रामपुर सांसद आजम खां पर संगीन धाराओं में हुए ताबड़तोड़ मुकदमों के बोझ तले दब गए हैं। इसके चलते उनका 22 किलोग्राम वजन भी घट गया है और शरीर भी कमजोर हो गया है। आजम ने खुद ही जलसे के दौरान वजन घटने की बात कही है। इतना कहते ही वह भावुक भी हो गए। शहर के मुहल्ला खजान खां के कुआं में हुए जलसे में आजम बोले, मेरे ऊपर बकरी, भैंस, गाय, किताब चोरी, डकैती के इतने मुकदमे दर्ज कराए गए हैं कि मेरा 22 किलो वजन घट गया है। मैं तो फिर भी इंसान हूं। 

बाल विवाह की चल रही थी तैयारी, मुकदमा दर्ज कराने की धमकी देकर रुकवाया

भोजपुर में नाबालिग का विवाह करने पर बिरादरी के लोग भड़क गए। किशोरी के रिश्तेदारों ने बिरादरी की पंचायत कर बाल विवाह में केस दर्ज कराने की धमकी देकर विवाह को रुकवा दिया गया पीपलसाना रेलवे स्टेशन के निकट कांशीराम आवास में रामपुर का रहने वाला ग्रामीण पांच बच्चों के साथ रहता है। कालोनी के बराबर में ही कंजर बंजारा जाति के लोग तंबू डालकर रहते हैं। उसमें रहने वाले युवक ने ग्रामीण की 14 वर्षीय किशोरी से विवाह का प्रस्ताव रखा और नकदी देने का लालच दिया। 

 अब आपकी की भी थाली से गायब हो जाएगा टमाटर, जानिए क्या है वजह 

बारिश के कारण प्याज के भाव जिस तेजी से बढ़े थे वैसे ही हाल अब टमाटर के हैं। टमाटर की सुर्खी बढऩे से खाने का जायका घट गया है।पिछले दिनों प्याज के दाम नीचे लाने में सरकार ने तो कवायद शुरू की थी, लेकिन टमाटर के भाव अब तक बरकरार हैं। अक्सर मानसून के बाद हरी सब्जियों के भावों में तेजी आती है, लेकिन इस बार मानसून के बाद आयी बाढ़ ने इन भावों को दोगुना तक कर दिया है। 

सम्भल में डॉक्टरों के अभाव में स्वास्थ्य सेवाएं वेंटीलेटर पर 

जिला अस्पताल समेत जनपद भर के सभी सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सकों का टोटा है। ऐसे में मरीजों को निजी अस्पतालों में महंगा इलाज कराना पड़ रहा है। यही नहीं झोलाछाप भी मालामाल हो रहे हैं।  प्रदेश सरकार स्वास्थ्य सेवाओं की दशा सुधारने के लिए भले ही प्रयास कर रही हो, लेकिन सम्भल जिले में स्थिति बेहद ही खराब है। जनपद सम्भल में एक जिला अस्पताल, 10 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 27 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 4 अर्बन हेल्थ स्वास्थ्य केंद्र खोले गए है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस