सम्भल के सरायतरीन में धर्मस्थल के निर्माण को लेकर तनातनी, अधिकारियों ने फोर्स से छावनी बना दिया इलाका

 सरायतरीन के नवादा मोहल्ले में बुधवार की दोपहर अचानक मामला गर्म हो गया। सम्भल के सरायतरीन में धर्मस्थल के निर्माण को लेकर दो पक्षों में तनातनी के हालात बन गए। सूचना पाकर अधिकारियों ने इलाके को छावनी बना दिया। चप्पे- चप्पे पर फोर्स तैनात कर दी। मामला सरायतरीन के नवादा स्थित एक धार्मिक स्थल का है। इसके अंदर निर्माण कार्य कराए जाने की सूचना पाकर दूसरा पक्ष मुखर हो गया। तत्काल अधिकारियों संग पुलिस को सूचना दे दी।

भड़क गया फौजी जब ई-रिक्शा ने डीएम आवास के पास उसकी कार में मारी टक्कर

कार में सवार फौजी उस समय भड़क गया जब ई-रिक्शा ने डीएम आवास के पास उसकी कार में टक्कर मार दी। वहीं फलों का ठेला लगाने वाले बाल बाल बच गए।कार में सवार फौजी उस समय भड़क गया जब ई-रिक्शा ने डीएम आवास के पास उसकी कार में टक्कर मार दी। वहीं फलों का ठेला लगाने वाले बाल बाल बच गए।यह घटना बुधवार की दोपहर मुरादाबाद डीएम आवास के पास हुई। पीली कोठी की तरफ से आ रहे ई रिक्शा चालक ने आगे चल रहे फौजी की कार में टक्कर मार दी।

30 अवैध भट्टियां बंद कराएगा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

 प्रदूषण को रोकने के लिए प्रशासनिक अफसर लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मुरादाबाद की तीस और भट्ठियों को बंद करने का आदेश जारी कर दिया। जनपद में अभी तक पीतल गलाने वाली 66 भट्ठियों के खिलाफ कार्रवाई हो चुकी है। शहर की आबो-हवा प्रदूषित करने में ई-वेस्ट की भूमिका महत्वपूर्ण रही है। पीतल भट्ठियों में ई-कचरा भी गलाने का काम किया जाता है। छह माह से प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी अवैध रूप से संचालित होने वाली भट्ठियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रहे हैं।

अमरोहा में पल- पल बदल रही है सियासत, जिला पंचायत अध्यक्ष पद को लेकर मचा है घमासान

अमरोहा में जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर सियासत न केवल पल-पल बदल रही है वरन गर्मा भी रही है। जिला पंचायत सदस्य अंजू भारती व उनके परिवार के अपहरण के मामले में बुधवार को नया मोड़ आ गया। उनके पति अपने साथियों के साथ एसपी से मिले तथा कहा हमारे परिवार का अपहरण नही हुआ था। हम अपनी मर्जी से घूमने गए थे। उन्होंने अपने पिता द्वारा दर्ज कराए गए अपहरण के मुकदमे को खत्म कराने की मांग की है।

पीएम सम्मान निधि की जानकारी के लिए किसानों को करनी होगी जेब ढीली

जनसेवा केंद्रों पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की जानकारी अब मुफ्त में नहीं मिलेगी। किसानों को इसके लिए जेब ढीली करनी पड़ेगी। केंद्र सरकार ने आनलाइन आवेदन और पीएम किसान सम्मान निधि की जानकारी के लिए फीस तय कर दी है। केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क से अधिक लेने पर जनसेवा केंद्रों के खिलाफ कार्रवाई होगी। इसके लिए किसानों को लिखित रूप से शिकायत दर्ज करानी होगी।

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप