संभल, जागरण संवाददाता। Case of locking a student in school:  धनारी थाना क्षेत्र के सरकारी स्कूल में 18 घंटे तक कक्षा में कैद रही कक्षा एक की छात्रा अंशिका के मामले में गुरुवार को बीएसए चंद्रशेखर ने स्कूल का जायजा लिया। उन्होंने अंशिका के घर जाकर उससे तथा स्वजन से मुलाकात की। परिवार वालों ने स्कूल की शिकायत की। मामले की गंभीरता को भांप बीएसए ने तत्काल ही स्कूल में तैनात हेड मास्टर के साथ ही दो अध्यापकों को निलंबित कर दिया। यहां लंबे समय से गैर हाजिर चल रहे शिक्षा मित्र की सेवा समाप्‍त कर दी गई। 

यह भी पढ़ें:- Sambhal News : शिक्षकों की बड़ी लापरवाही, बच्ची को स्कूल में बंद करके चले गए शिक्षक, रातभर छटपटाती रही

धनारी क्षेत्र के गांव धनारी बालूशंकर पट्टी में स्थित प्राथमिक विद्यालय में ज्ञान सिंह की पुत्री अंशिका मंगलवार को स्‍कूल गई थी। वह कक्षा एक की छात्रा है। अंशिका नींद आने पर स्‍कूल में ही सो गई। छुट्टी के समय शिक्षक उसे बंद करके स्‍कूल से चले गए। बुधवार की सुबह साढ़े आठ बजे मासूम बच्ची बाहर निकल सकी। 18 घंटे तक उसने कैसे बिताया होगा। इसे सुनकर ही रूह कांप जाएगी। डर के साथ भूख से बच्ची पूरी रात छटपटाती रही।

यह भी पढ़ें:- रातभर स्कूल में बंद रही वंशिका ने सुनाई 18 घंटे की कहानी, बोली- अंधेरे ने डराया, खूब चिल्लाई पर मामा नहीं आए

इस मामले की खबर अधिकारियों तक पहुंचने पर हड़कंप मच गया। गुरुवार को बीएसए चंद्रशेखर ने स्कूल का जायजा लिया। स्कूल में उनसे और भी कई शिकायतें की गई। ग्रामीणों व छात्र -छात्राओं ने भोजन में गड़बड़ी की शिकायत भी की। आरोप है कि बच्चों को सरकारी मेन्‍यू के हिसाब से भोजन नहीं मिल पा रहा है। बीएसए ने इस मामले में तत्काल ही स्कूल के प्रधानाध्यापक भगवान सिंह के साथ ही अध्यापक वेदपाल व सत्यपाल को निलंबित कर दिया, जबकि शिक्षमित्र की सेवा समाप्‍ कर दी गई।

बीएसए संभल चंद्रशेखर ने बताया कि इस मामले में जांच की गई है। मौके पर जाकर बच्चों व अभिभावकों से बातचीत की गई। इसमें शिक्षकों की लापरवाही सामने आई है। प्रधानाध्यापक भगवान सिंह के साथ ही अध्यापक वेदपाल व सत्यपाल को निलंबित किया गया है। यहां तैनात शिक्षा मित्र लंबे समय से नदारद हैं। उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है।

Edited By: Vivek Bajpai