सम्भल, जेएनएन। जिले के गुन्नौर क्षेत्र में राजघाट बबराला रोड पर मंगलवार को खंदक में युवक का शव मिला था। परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए गांव के ही पांच लोगों के खिलाफ तहरीर दी थी। रविवार को पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश कर दिया।

यह है पूरा मामला 

मंगलवार को कोतवाली क्षेत्र के गांव मीरमपुर निवासी जोगेश पुत्र नत्थू का शव गांव के समीप बबराला राजघाट रोड पर खंदक में पड़ा मिला था। स्वजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए गांव के ही पांच लोगों के खिलाफ तहरीर दी थी। रविवार को नूरपुर तिराहे से चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ पता चला कि देर शाम जोगेश अपने साथियों के साथ गांव के चामुंडा मंदिर पर शराब पीने के लिए आया था। इस दौरान जोगेश अपनी गाड़ी की किस्त जमा ना कर पाने व लड़की की शादी को लेकर परेशान था। इस पर उसने मंदिर पर रह रहे महंत बाबा हरिओम गिरी से समस्या का समाधान पूछा तो बाबा ने शरीर को त्यागने की बात कही। कुछ देर बाद जोगेश ने चामुंडा मंदिर के पास स्थित पेड़ पर लटक कर खुदकशी कर ली। इसके बाद हरिओम गिरी और रामवीर, संजय, मनोज ने मिलकर शव उतारकर गांव के पास बबराला राजघाट रोड पर खंदक में फेंकने के साथ अंगोछा, दरांती और मोबाइल फोन को नजदीक के ही एक खेत की झाडिय़ों में छुपा दिया। पुलिस ने आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस ने अंगोछा, मोबाइल व दरांती को बरामद कर लिया।

आत्महत्या के लिए उकसाया था

प्रभारी निरीक्षक प्रवीण सोलंकी ने बताया कि चामुंडा मंदिर के महंत हरिओम ने जोगेश को समस्याओं के निदान के लिए आत्महत्या को उकसाया था। गांव के ही तीन अन्य की मदद से उसके शव को पेड़ से उतारकर खंदक में फेंका था। चारों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस