अमरोहा। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मुहम्मद शमी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पत्नी हसीन जहां की ओर से दर्ज कराए गए दहेज उत्पीडऩ के मुकदमे में कोलकाता की अदालत ने उनके खिलाफ वारंट जारी कर दिया है। इस पर उनके भाई हसीब अहमद का कहना है कि शमी को 15 दिन के भीतर पेश होने का आदेश अदालत ने दिया है। वेस्टइंडीज दौरे से लौटते ही शमी न्यायालय में हाजिर होंगे। हम न्यायालय का पूरा सम्मान करते हैं। इसके साथ ही फोन पर हुई बातचीत में शमी की पत्नी हसीन ने बताया कि शमी कानून को भी अपने सामने बौना समझते हैं। उन्होंने जमानत नहीं कराई है, लिहाजा अदालत ने वारंट जारी किया है। कहा कि उन्हें न्यायालय पर पूरा भरोसा है। वहां से उन्हें न्याय जरूर मिलेगा। 

पिछले साल मार्च में मुहम्मद शमी और उनकी पत्नी हसीन जहां के बीच विवाद शुरू हुआ था। हसीन ने शमी पर दूसरी महिलाओं से संबंध रखने, दहेज उत्पीडऩ तथा घरेलू ङ्क्षहसा का आरोप लगाया था। साथ ही जेठ हसीब अहमद पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए कोलकाता के अलीपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। विवाद शुरू होने के बाद से ही शमी और हसीन अलग-अलग रह रहे हैं। बेटी आयरा मां हसीन के साथ ही रह रही है। 

वर्तमान में शमी टीम इंडिया के साथ वेस्टइंडीज दौरे पर हैं और टेस्ट मैच खेल रहे हैं। सोमवार को कोलकाता की अदालत ने शमी के खिलाफ वारंट जारी किया है। दहेज उत्पीडऩ व घरेलू ङ्क्षहसा के मामले में उन पर अदालत में हाजिर न होने का आरोप है। 

 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप