रामपुर(मुस्लेमीन): सांसद आजम खां पर कानूनी शिकंजा कसने लगा है। उनके खिलाफ अदालत से पांच मामलों में वारंट और गैर जमानती वारंट जारी हो चुके हैं। पुलिस ने भी उन्हें सात मुकदमों में बयान दर्ज कराने के लिए नोटिस जारी कर तलब किया है। उनके करीबियों को भी पुलिस ने नोटिस जारी किए हैं।

रामपुर में पिछले माह विधानसभा उपचुनाव हुआ, जिसमें आजम खां की पत्नी डॉ. तजीन फात्मा सपा प्रत्याशी थीं। वह चुनाव भी जीत गईं। इसके साथ ही उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। चुनाव के दौरान ही आजम खां रामपुर आए। इससे पहले वह रामपुर नहीं आ रहे थे, क्योंकि उनके खिलाफ लगातार मुकदमे दर्ज हो रहे थे। उनके खिलाफ लोकसभा चुनाव के बाद से जमीनें कब्जाने के ही 45 मुकदमे दर्ज कराए जा चुके हैं। उनपर भैंस, गाय और बकरी चोरी का भी आरोप है।

लोकसभा चुनाव के दौरान भी उनके खिलाफ 15 मुकदमे आचार संहिता उल्लंघन और आपत्तिजनक भाषणबाजी को लेकर दर्ज कराए गए। लोकसभा चुनाव से पहले के भी 10 मुकदमे अदालतों में चल रहे हैं। आजम खां के बेटे विधायक अब्दुल्ला आजम की उम्र को लेकर भी विवाद है। उनके दो-दो जन्म प्रमाण पत्र बनवाने का आरोप है। इस मामले में आजम खां, उनकी पत्नी विधायक डॉ. तजीन फात्मा और अब्दुल्ला के खिलाफ मुकदमा अदालत में विचाराधीन है। अदालत ने इन्हें पहले समन जारी किए, फिर तीन बार वारंट भेजे। लेकिन, इसके बाद भी अदालत में नहीं आए तो तीन दिन पहले अदालत ने इनके गैरजमानती वारंट जारी कर दिए।

इसके अलावा दो अन्य मामलों में भी इनके खिलाफ गैर जमानती वारंट इसी सप्ताह जारी किए गए हैं, जबकि दो मामलों में वारंट जारी हुए हैं। इनमें एक मामला पूर्व सांसद एवं फिल्म अभिनेत्री के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी करने का भी है। पुलिस जिन मामलों की विवेचना कर रही है उनमें बयान दर्ज कराने के लिए आजम खां को सात नोटिस जारी किए गए हैं। पहले उन्हे कई बार एसआइटी ने भी तलब किया। लेकिन, डेढ़ माह से पुलिस उन्हे तलब नहीं कर रही थी। इसी दौरान उपचुनाव भी हुआ।

अदालत के आदेश का अनुपालन होगा

पुलिस अधीक्षक डॉ.अजय पाल शर्मा का कहना है कि अदालत के आदेशों का अनुपालन कराया जाएगा, जिन मामलों में विवेचना चल रही है, उनमें बयान दर्ज कराने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं।

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस