अमरोहा, जेएनएन। जिले में मृतकों के बैंक खातों में भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि जा रही थी। इसका पर्दाफाश किसी और ने नहीं बल्कि खुद उनके स्वजन ने किया। सूचना मिलने के बाद कृषि विभाग ने 110 लोगों से सम्मान निधि के 1.42 लाख रुपये वसूल लिए हैं जबकि, अन्य ने धनराशि वापस करने के लिए कुछ दिन की मोहलत मांगी है। अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही उनसे सम्मान निधि की धनराशि वापस लेकर सरकार के खाते में भेज दी जाएगी।

केंद्र सरकार द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि योजना चलाई जा रही है। जिसके तहत किसानों को सालभर में छह हजार रुपये उपलब्ध कराए जाते हैं। यह धनराशि तीन किस्तों में उनके बैंक खातों में भेजी जाती है। जिले के दो लाख आठ हजार किसान योजना का लाभ ले रहे हैं। यहां बता दें कि कुछ दिन पहले आयकरदाताओं द्वारा सम्मान निधि लेने का मामला सामने आया था लेकिन, अभी यह निपटा भी नहीं है कि मृतकों के खातों में सम्मान निधि पहुंचने की सूचनाएं विभागीय अफसरों को मिल रही है।

इससे पर्दा मृतकों के स्वजन उठा रहे हैं। करीब 200 लोग ऐसे सामने आए हैं जो मृत हो चुके हैं लेकिन, उनके बैंक खातों में सम्मान निधि की किस्त बराबर आ रही थीं। स्वजनों की जानकारी के बाद अफसर हरकत में आए हैं। उनके द्वारा 110 मृतकों के स्वजनों से 1.42 लाख रुपये की धनराशि वापस ले ली गई है। अन्य से कहा गया तो उन्होंने जल्द ही सम्मान निधि वापस करने का वादा अधिकारियों से किया है।

जिला कृषि अधिकारी राजीव कुमार सिंह ने कहा कि सम्मान निधि का लाभ ले रहे किसानों का अभी सरकार ने कोई सत्यापन नहीं कराया है। इसलिए मृतकों का कुछ पता नहीं चल पाता है। जो किसान मृत हो जाते हैं तो उनके स्वजन ही विरासत में नाम चढ़वाने के बाद सम्मान निधि के लिए आवेदन करने आते हैं। इसके बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाती है। 200 मृत लोगों के स्वजनों से सम्मान निधि वापस कराई जा रही है। कुछ ने कर दी है जबकि, अन्य ने शीघ्र ही वापस करने को कहा है।

Edited By: Vivek Bajpai