जागरण संवाददाता, मुरादाबाद। Sambhal Head Cut Body Found Case : संभल जनपद में दो दिन में दो सिर कटी लाशें मिली हैं। दोनों बॉडी नवजवान युवकों की थी जो आपस में सगे भाई थे और 21 व 18 साल के थे। दोनों बुलंदशहर के रहने वाले थे और वहीं पर बेरहमी से हत्या करके उनके शव संभल में फेंके गए थे। दोनो के सिर हत्यारोपितों ने हत्या करने के बाद गंगा नदी में बहा दिया था।

युवक के विधवा के साथ थे अवैध संबंध

बुलंदशहर जनपद की पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार करके मामले का राजफाश किया है। वारदात अवैध संबंध में अंजाम दी गई थी। जिस युवक की हत्या की गई उसके गांव में रहने वाली विधवा महिला के साथ अवैध संबंध थे। महिला के बेटे ने दोनों को आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था। पुलिस ने महिला लता शर्मा, उसके बेटे दुर्गेश और एक अन्य मुकुल को गिरफ्तार कर लिया है। तीनों बुलंदशहर जनपद के सलेमपुर के कैलवान गांव के रहने वाले हैं।

महिला के बेटों ने रची थी हत्या की साजिश

गिरफ्तार अभियुक्तों ने पुलिस को पूरी कहानी बताई। पुलिस के अनुसार सलेमपुर निवासी भूपेंद्र कुमार उर्फ गोलू के गांव की ही विधवा महिला लता शर्मा के साथ अवैध संबंध थे। एक दिन बेटे दुर्गेश ने मां को युवक के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया। इसके बाद दुर्गेश व मुकुल ने अपने भाई तुषार शर्मा के साथ मिलकर भुपेंद्र की हत्या की साजिश रची।

सिर काटकर गंगा में बहाया

योजना के तहत पहली अक्टूबर को जब भूपेंद्र अपने चचेरे भाई जगदीश के साथ जब झांकी देखने गया था, वहीं से आरोपित दोनों को अपने साथ घर ले गए। पहले वहां पर दोनों के साथ मारपीट की। फिर गाड़ी से संभल के रजपुरा में ले जाकर गला रेतकर दोनोंं की हत्या कर दी और दोनों के सिर बोरी में भरकर गंगा नदी में फैक दिया। जबकि धड़ को टी-प्वाइंट पुलिस चौकी से कुछ दूरी पर फेंक कर घर चले गए।

कैसे खुला मामला

गांधी जयंती यानी दो अक्टूबर की रात संभल में सिर कटी लाश बरामद हुई थी। पुलिस चौकी से कुछ दूरी पर मिले इस शव की शिनाख्त नहीं हो पाई थी। पुलिस ने शिनाख्त के लिए आसपास के जिलों में पूछताछ की थी। इस मामले का संज्ञान लेकर बुलंदशहर पुलिस ने आरोपित दुर्गेश को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो वह टूट गया। फिर उसकी निशानदेही पर भूपेंद्र की सिर कटी लाश मंगलवार को पुलिस ने बरामद कर ली।

पुलिस ने कैलावन के जंगल से हत्या में प्रयुक्त धारदार हथियार और तमंचा भी बरामद कर लिया। घटना में शामिल तुषार शर्मा दिल्ली पुलिस में सिपाही है। तथा अभियुक्तों द्वारा घटना को फिरौती का रूप देने के उद्देश्य से भूपेंंद्र के फोन से उसके पिता को फोन करके पांच करोड़ रुपये की फिरौती भी मांगी थी। जिसे पुलिस ने ट्रेस करके पूरे मामले का राजफाश कर दिया।

Edited By: Samanvay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट