मुरादाबाद : जीजा के प्रेम जाल में फंसी युवती सोमवार को तब अचानक आफत में फंस गई, जब बड़ी बहन व उसके भाइयों ने अस्पताल परिसर में उस पर हमला बोल दिया। पुलिस की तत्परता के कारण युवती की जान छूटी। सरेराह जूतमपैजार से आधे घंटे से भी अधिक समय तक अस्पताल में अफरातफरी मची रही।

ये है पूरा मामला

भगतपुर थाना प्रभारी राजेंद्र सिंह पुंडीर के मुताबिक एक माह पूर्व मिलक मुंडिया गांव निवासी युवती के परिजनों ने तहरीर देते हुए बताया था कि युवती अपने सगे जीजा संग फरार है। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर छानबीन की तो पता चला कि युवती का चक्कर महीनों से अपने जीजा निवासी लखमन नंगला, थाना टांडा, रामपुर के साथ चल रहा था। मजार जाने के बहाने वह घर से फरार हुई थी। कोर्ट के आदेश पर युवती रविवार को भगतपुर थाने पहुंची। उसने खुद को न सिर्फ बालिग बताया बल्कि जीजा संग निकाह पढ़ लेने का दावा भी किया। सोमवार को भगतपुर पुलिस युवती को लेकर जिला अस्पताल पहुंची। मेडिकल परीक्षण के बाद अस्पताल से बाहर निकलने की कोशिश कर रही युवती के होश तब उड़ गए जब उसके सगे-संबंधियों ने ही हमला बोल दिया। यह देख पुलिस कर्मी युवती के बचाव में आगे बढ़े। तब तक हमलावर कई घूंसे युवती पर बरसा चुके थे। अफरातफरी के बीच पुलिस ने सगे-संबंधियों के चंगुल से युवती को छुड़ाया और उसे कोर्ट में पेश किया। मेरा ही घर मिला था लूटने के लिए

प्यार के पक्षी दोबारा नील गगन में उड़ गए। इसके बाद भी उन्होंने अपने पीछे कई ऐसे सवाल छोड़े, जिनका जवाब तलाशना शायद ही किसी के लिए आसान होगा। युवती व उसकी बड़ी बहन एक माह बाद पहली बार आमने-सामने थीं। युवती को देखते ही बड़ी बहन की आंख से अंगारे बरसने लगे। क्रोध की आग में जल रही बड़ी बहन ने अपने इकलौते पुत्र को युवती के सामने किया। फिर पूछा कि बताओ इसे लेकर अब मैं कहां जाऊं? मेरा ही घर मिला था लूटने के लिए। छोटी बहन पर बड़ी ने सवालों के ऐसे तीखे तीर चलाए, जिनके जवाब मौके पर मौजूद दर्जनों लोगों में से किसी के पास नहीं थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस