मुरादाबाद (प्रदीप चौरसिया)। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवानों के वर्दी पहनकर फोटो खिंचाने पर रोक लगा दी गई है। उन्हें सोशल मीडिया से दूर रहने के लिए कहा गया है। दरअसल, आरपीएफ अधिकारियों व जवानों को अब आंतकी और नक्सली की गोपनीय सूचना एकत्रित करने में लगाया जाएगा। इसको देखते हुए महानिदेशक आरपीएफ ने यह निर्देश जारी किए हैं। इस नियम का उल्लंघन करने वाले अधिकारियों व कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। 

इन दिनों ट्रेनों पर आंतकी, नक्सली से खतरा बढ़ता जा रहा है। वर्तमान में आतंकी व नक्सली से संबंधित सूचना लेने के लिए रेल प्रशासन को स्थानीय पुलिस की गुप्तचर शाखा या केंद्रीय गुप्तचर एजेंसी पर निर्भर रहना पड़ता है। कई बार समय से आरपीएफ को सूचना नहीं मिल पाती है और रेल लाइन या ट्रेन को बम से उड़ा दिया जाता है। रेलवे अब इस तरह की सूचना एकत्रित करने के लिए आत्मनिर्भर होने जा रहा है। गुप्तचर के रूप में आरपीएफ के अधिकारियों व जवानों को तैनात किया जाएगा। इसके लिए जवानों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। 

रेलवे सुरक्षा बल महानिदेशक (रेलवे बोर्ड) अरुण कुमार ने आरपीएफ अधिकारियों व जवानों के सोशल मीडिया प्रयोग पर पाबंदी लगा दी है। उन्हें सोशल मीडिया से दूर रहने के आदेश जारी किए हैं। आरपीएफ के अधिकारी या कर्मचारी वर्दी पहनकर या कार्यस्थल का फोटो सोशल मीडिया पर नहीं लगा सकते हैैं। अधिकारियों व जवानों के लिए डायरेक्टिव 54 जारी किया है। इसमें कहा गया है कि नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सोशल मीडिया को व्यक्तिगत तौर पर प्रयोग कर सकते हैैं। प्रोफाइल में कार्यस्थल में रेलवे अंकित कर सकते हैं लेकिन, आरपीएफ या पदनाम नहीं लिखा जाएगा। सोशल मीडिया पर आरपीएफ का लोगो भी नहीं लगा सकेंगे। आफिस से जुड़ी समस्या भी सोशल मीडिया पर उठाने पर रोक लगा दी गई है। 

सहायक सुरक्षा आयुक्त एपी सिंह ने बताया कि महानिदेशक के आदेश का पालन करने का निर्देश सभी अधिकारियों व जवानों को दिया गया है। नियम का उल्लंघन करने पर कार्रवाई की जाएगी। 

 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप