जागरण संवाददाता, संभल। Religious Conversion in Sambhal : उत्तर प्रदेश के सम्भल जनपद के नखासा थाना क्षेत्र में हिेंदू संप्रदाय की महिला पर ईसाई धर्म अपनाने का दबाव बनाने और हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर छपे पोस्टर जलाने वाली दो शिक्षिकाओं के खिलाफ पुलिस ने विरोध के बाद प्राथमिकी पंजीकृत कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

रातभर चला था हंगामा

गुरुवार की देर रात मौके पर हंगामा चलता रहा था और उसके बाद सीओ एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर मामले की जांच की थी।गांव सिरसानाल निवासी विलियम ने हिंदू समाज की महिला सुनीता से शादी की है। विलियम की ईसाई संप्रदाय में आस्था है तो महिला हिंदू देवी देवताओं की पूजा अर्चना करती है।

मिशनरी स्कूल की दो शिक्षक मतांतरण का बना रहीं थी दबाव

गांव में ही स्थित एक धार्मिक स्थल के लोग विलियम का विरोध करते हैं। इनका एक स्कूल भी चलता है। इसमें पढ़ाने वाली दो महिला शिक्षक बुधवार की रात विलियम के घर गई और उसकी पत्नी को हिंदू से ईसाई बनने के लिए बोला। महिला ने मना कर दिया। यहां विवाद हो गया।

धार्मिक पोस्टरों को जलाने का आरोप

आरोप है कि दोनों शिक्षिक ने धार्मिक तस्वीर वाले पोस्टरों को जला दिया। मीट खाने का भी दबाव बनाया गया। रात में गांव के लोगों ने किसी तरह मामला शांत कर दिया लेकिन गुरुवार को दोपहर में महिला ने कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा करना शुरू कर दिया। जानकारी मिलने पर भाजपा नेता हरेंद्र सिंह उर्फ रिंकू कार्यकर्ताओं के साथ मौके पर पहुंच गए।

युवक के साथ मारपीट

इसके बाद मौके पर भीड़ जमा हो गई थी। शाम को एक युवक के साथ मारपीट भी हुई। उसके बाद पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया था। पुलिस जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही थी जबकि भाजपा नेता कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े हुए थे। किसी तरह का विवाद न हो इसको लेकर पुलिस बल गांव में तैनात किया गया था।

एसडीएम ने गांव जाकर की थी जांच

उधर जिलाधिकारी मनीष बंसल ने एसडीएम विनय कुमार मिश्र और सीओ जितेंद्र कुमार को जांच करने के लिए गांव में भेजा। देर रात दोनों अधिकारी गांव में पहुंचे और मामले की जांच की। इसके बाद पुलिस ने शिक्षिका रोसमयरी और जीसा के खिलाफ प्राथमिकी पंजीकृत कर दोनों को हिरासत में ले लिया। प्रभारी निरीक्षक सत्येंद्र सिंह पंवार ने बताया कि दोनों का चालान कर दिया गया है।

Edited By: Samanvay Pandey