रामपुर: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मंत्री आजम खा ने कहा कि पुलवामा में देश के जवानों के साथ हुई आतंकवादी घटना बेहद दुखदायी और निंदनीय है। कोई भी मजहब इसकी इजाजत नहीं देता। कहा जा रहा है कि 19 साल के लड़के ने इस घटना को अंजाम दिया है। उसने खुदकशी की है, जबकि खुदकशी करना इस्लाम में हराम है। यह जेहाद नहीं है, जेहाद तो अंग्रेजों के खिलाफ छेड़ा गया था। सपा कार्यालय पर हुई शोकसभा में दो मिनट का मौन रखकर शहीदों के परिजनों के लिए सब्र के लिए दुआ की गई। आजम खा ने बाद में मीडिया से बात करते हुए कहा कि जितनी हमारी सुरक्षा एवं खुफिया एजेंसिया हैं। उनसे वह काम न लेकर राजनीति काम लिया जा रहा है। कुछ ममता जी जाच, कुछ वाड्रा साहब की हो रही है। इस खादिम के पीछे भी पड़े हैं। मुलायम सिंह यादव के साथ जो कुछ हुआ है, वह आप सबने देख ही लिया। उन्हें इतना मजबूर कर दिया कि उनसे वह कहलवा दिया, जिससे उनके पूरे जीवन का बलिदान ही खत्म हो गया। होश में रहे पाकिस्तान: हनफी

बिलारी: सुन्नी इमाम काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मुफ्ती मोहम्मद इमरान हनफी ने कश्मीर में भारतीय सैनिकों की हत्या पर गहरा रोष जताया। आतंकी हमले के लिए उन्होंने पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए चेतावनी दी कि वह अपनी नापाक हरकतों से बाज आए और होश में रहे, अगर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नही आया तो भारतीय मुसलमान उसके खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे। कहा कि मजहबे इस्लाम का आतंकवाद से कोई वास्ता नहीं है परंतु पाकिस्तान बेगुनाहों की हत्या करवा कर इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम करवा रहा है। इसको सहन नहीं किया जाएगा। भारत का मुसलमान सबसे पहले अपने वतन से मोहब्बत करता है और इसकी हिफाजत के लिए जान भी दे देगा। चेयरमैन ने इस घटना की कड़ी मजम्मत करते हुए भारतीय सैनिकों की हत्या पर गमों गुस्से का इजहार किया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस