मुरादाबाद, जेएनएन। दिल्ली और उत्तराखंड की ओर जाने वाले यात्रियों को जल्द राहत मिलने वाली है। अगले सप्ताह से रोडवेज की बसें उत्तराखंड और दिल्ली जाना शुरू कर देंगी। रोडवेज प्रबंधन ने कोरोना के कारण ड्यूटी पर नहीं आने वाले चालकों व परिचालकों को ड्यूटी पर बुलाना शुरू कर दिया है।

कोरोना की दूसरी लहर के कारण कोरोना कर्फ्यू लगा दिया गया था। पहली मई से रोडवेज की बसों को यूपी से बाहर जाने व दूसरे प्रदेश की बसों को यूपी में आने पर रोक लगा दी गई थी। मुरादाबाद मंडल के अधिकांश बस यात्री उत्तराखंड  या दिल्ली आते-जाते रहते हैं। बस सेवा बंद होने से दोनों राज्यों में जाने वाले यात्री परेशान हो गए। उत्तराखंड जाने वाले यात्री रोडवेज की बसों से यूपी की सीमा तक जाते है और पैदल चलकर उत्तराखंड की सीमा में पहुंचकर दूसरी वाहन से गंतव्य तक जाते हैं। हालांकि यूपी रोडवेज की बसें कौशांबी तक जाती है, वहां यात्री दिल्ली की सीमा में प्रवेश कर गंतव्य को जाते हैं। इसलिए दिल्ली जाने वाले यात्रियों को कम परेशानी होती है। दोनों राज्यों की बसें नहीं जाने से यूपी रोडवेज की आर्थिक हालत लगातार खराब हो रही है। एक जून से दिन में कोरोना कर्फ्यू हटा दिया है, लेकिन दूसरे राज्यों के लिए बसों के चलने पर 14 जून तक रोक लगा रखी है। माना जा रहा है कि 15 जून से रोडवेज की बसें उत्तराखंड व दिल्ली जाना शुरू कर देंगी। रोडवेज प्रबंधन ने 15 जून से दिल्ली व उत्तराखंड के लिए बसों का संचालन शुरू करने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। कोरोना संक्रमण के डर से मंडल में तीन सौ चालक व परिचालक ड्यूटी पर नहीं आ रहे हैं। रोडवेज प्रबंधन ने ऐसे सभी चालकों व परिचालकों को ड्यूटी पर बुलाना शुरू कर दिया है। क्षेत्रीय प्रबंधक अतुल जैन ने बताया कि 15 जून से रोडवेज की बसें उत्तराखंड व दिल्ली जाने लगेंगी। अनुपस्थित चल रहे चालक व परिचालकों को ड्यूटी पर बुलाया जा रहा है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप