मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। रामपुर नवाब खानदान की रामपुर में 2600 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। इसके बंटवारे की प्रक्रिया चल रही है। जिला जज ने विभाजन योजना भी पेश कर दी है। 31 जुलाई तक आपत्ति मांगी है। अब पक्षकार इस पर सहमति करने जुटे हैं। वे चाहते हैं कि बंटवारा शीघ्र हो जाए। इसके लिए वे एक दूसरे से संपर्क साध रहे हैं। अपने वकीलों से भी विचार विमर्श कर रहे हैं।

रियासत के आखिरी नवाब रजा अली खां की संपत्ति के बंटवारे को लेकर 49 साल से मुकदमेबाजी चल रही है। उनकी 2600 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। जुलाई 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने शरीयत के हिसाब से इसका बंटवारा करने के आदेश दिए थे। बंटवारे की जिम्मेदारी जिला जज को सौंपी गई। उन्होंने विभाजन योजना पेश कर दी है। सभी पक्षकारों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित किए गए उनके उनके हिस्से के हिसाब से संपत्ति देने का प्रस्ताव पेश किया है। अगर किसी को इसपर कोई आपत्ति है तो वह 31 जुलाई तक दे सकता है। इसे लेकर अब तमाम पक्षकार राय मशविरा कर रहे हैं। 11 पक्षकारों के वकील एवं पूर्व जिला शासकीय अधिवक्ता हर्ष गुप्ता बताते हैं कि पक्षकार अब विभाजन योजना को लेकर विचार विमर्श कर रहे हैं। इसपर आपत्ति या सुझाव देने के लिए उनसे भी बात की है। पक्षकार चाहते हैं कि शीघ्र बंटवारे की प्रतिक्रिया पूरी हो जाए। वह 31 जुलाई अदालत में पक्षकारों की ओर से सुझाव और आपत्ति पेश करेंगे। उन्होंने बताया कि विभाजन योजना के बारे में पूर्व सांसद बेगम नूरबानो, समन खान, सबा दुर्रेज अहमद, कमर लका बेगम, नाहिद लका बेगम, ब्रिजीश लका बेगम, अख्तर लका बेगम, सिराजुल हसन को अवगत कराया गया है।

यह भी पढ़ें :-

Terrorists in UP : आतंक की राह पर न‍िकल रहे मुरादाबाद मंडल के युवक, खुफ‍िया एजेंस‍ियों की उड़ी नींद

Cartridge Scam : यूपी के चर्चित कारतूस घोटाले में एसटीएफ के हेड कांस्टेबल तलब, 30 को होगी सुनवाई

Edited By: Narendra Kumar